स्वागत:हर मानव अपने आप में अजूबा है, जो अपने भीतर की खूबी को निखार सकता है : सईद

दरभंगाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मिथिला इंस्टिट्यूट में वक्ता सैयद सईद अहमद का स्वागत किया गया

जब आप मेहनत, लगन, ईमानदारी के साथ जिस कार्य को करने की कोशिश करेंगे, उसमें आप सफलता के आखिरी पायदान तक पहुंच सकते हैं। हर मानव अपने आप में अजूबा है, जो अपने भीतर की खूबी को बाहर लाकर सफलता प्राप्त कर सकता है। हम सभी लोगों का हर अंग जब भिन्न-भिन्न हो सकता है, तो सफलता प्राप्त करने में परेशानी कहां आ सकती है। हमें पहले अपनी सोच को सकारात्मक बनानी होगी एवं उसी के अनुरूप योजना, मेहनत, समय लगाएंगे तो उसके अनूप हमें सफलता मिलेगी। हम जैसी सोच रखते हैं वैसा ही हमारा दिमाग काम करता है और उसी तरह की सोच पैदा हो जाती है। डिजिटल एवं सोशल मीडिया की दुनिया में अब हम सांस ले रहे हैं। जहां कदम-कदम पर मुकाबला हो रहा है, तो वहां हमें उत्तम तरह से कार्य करने की आवश्यकता है।

यह बातें अंतरराष्ट्रीय प्रेरणादायक वक्ता सैयद सईद अहमद ने सोमवार को मिथिला इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड मेडिकल साइंस दरभंगा के डॉ एपीजे अब्दुल कलाम सेमिनार हॉल में वर्कशॉप को संबोधित करते हुए कहा। व्यक्तित्व और विकास कार्यशाला कार्यक्रम को संबोधित करते हुए डॉ अहमद नसीम आरजू निर्देशक अलहिलाल अस्पताल ने कहा कि हम सबों के लिए यह बड़े सौभाग्य की बात है कि आज अंतर्राष्ट्रीय प्रेरणादायक वक्ता सैयद सईद अहमद हम लोगों के बीच है। इस कार्यक्रम में सैयद सईद अहमद, डॉ अहमद नसीम आरजू, ई अजमतउल्लाह सईद, तनवीर ईमाम, कार्यक्रम को इंजीनियर अजमतउल्लाह सईद, डॉक्टर इस्मत जहां अधीक्षक अल्पसंख्यक छात्रावास बालिका, सामाजिक कार्यकर्ता नाजिया हसन, फैजुद्दीन फैज, गुलाम रसूल साकी इत्यादि ने संबोधित किया।

खबरें और भी हैं...