धर्म-आस्‍था:शहर से लेकर गांव तक काली पूजा को लेकर उत्सवी माहौल

दरभंगाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अलीनगर में माता काली की भव्य प्रतिमा। - Dainik Bhaskar
अलीनगर में माता काली की भव्य प्रतिमा।

दीपावली की रात जगह-जगह काली पूजा को लेकर उत्सवी माहौल बना रहा। तीन दिवसीय इस पूजा को लेकर शहर के बलभद्रपुर, बेला शहीद परमेश्वर चौक, शुभंकरपुर सतिहारा, गंगासागर उत्तर तट पर, गंगासागर, मदारपुर, केएस कॉलेज रोड, सदर के मझीगामा सहित अन्य जगहों पर काली पूजा को लेकर उत्सवी माहौल बना है।

परमेश्वर चौक पर लगातार वर्ष 2004 से ही यहां मां काली की पूजा की जाती है। यहां युवा वर्ग के लोग पूजा में बढ़-चढ़कर भाग लेते नजर आते हैं। मां काली की पूजा रात के 12 बजे से शुरू हुई जाे अहले सुबह तक हाेती रही । दिग्घी पश्चिम काली मंदिर में भी पूजा को लेकर दर्शन करने को लेकर भीड़ रही।

अलीनगर : मनोरंजन के लिए सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी आयोजन : प्रखंड क्षेत्रों में काली पूजा को लेकर जहां उत्सवी माहौल बना हुआ है। वहीं भक्त माता काली की प्रतिमा के दर्शन के लिए उमड़ रहे हैं। पूजा को लेकर जहां गुरुवार को भव्य कलश शोभा यात्रा निकाली गई, जो विभिन्न नदी एवं तालाब में जल भरकर पूजा स्थल पर लाया गया।

जहां कलश की विधिवत पूजा अर्चना की गई। वहीं देर रात माता काली के पट खुलते ही भक्तों ने पूजा अर्चना शुरू की। माता की प्रतिमा स्थापित कर तुलापट्टी, गोरखा, पकरी, तूमौल में जहां पूजा अर्चना की जा रही है वहीं अंदौली गांव में माता की पत्थर की प्रतिमा को मंदिर में स्थापित की गई है। जहां सालों भर पूजा अर्चना की जाती है।

53 वर्षों से प्रतिमा स्थापित कर हो रही पूजा
अलीनगर :
तुलापट्टी गांव में पिछले 53 वर्षों से माता की प्रतिमा स्थापित कर पूजा-अर्चना की जा रही है। पूजा समिति के सदस्य तेतर यादव, बाबू प्रसाद यादव, लालमोहन यादव समेत कई लोगों ने बताया कि माता की पूजा पूरे गांव के सहयोग से की जाती है। जिसमें गांव के सभी समुदाय के लोग बढ़-चढ़कर भाग लेते हैं। वहीं, लोगों के मनोरंजन के लिए सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी आयोजन क्या गया है।

दर्शन को उमड़ी भीड़, कई जगहों पर सांस्कृतिक कार्यक्रम

108 कन्याओं ने कलश शोभायात्रा निकाली
गौड़ाबौराम| काली पूजा को लेकर 108 कुमारी कन्याओं ने कलश शोभायात्रा निकाली। श्री श्री 108 काली पूजा समिति तीरा, अध्यक्ष लक्ष्मी पंडित, सचिव अरुण कुमार यादव ने बताया कि पूजा स्थल से नदैई बाबा चंदेश्वर मंदिर परिसर से कलश में जल लेकर भ्रमण कर पूजा स्थल तीरा में पंडित बबलू की ओर से मंत्रोच्चारण के साथ विधि विधान से पूजा की गई।

यह पूजा पिछले 5 साल से की जा रही है। वहीं, आधारपुर के बाथ में सार्वजनिक पूजा समिति, भदौन, आसी में 4 दिवसीय काली पूजा आयोजन किया गया है। मौके पर जीबछ मंडल, ताराचंद्र मंडल, छोटेलाल पासवान, प्रेम मुखिया, संतोष पंडित, प्रदीप नारायण झा, कमलेश ठाकुर सहित दर्जनों सदस्य उपस्थित थे।

विभिन्न पूजा पंडालों एवं मंदिरों में देवी भक्ति के गीतों से बना रहा भक्तिमय माहाैल
विभिन्न पूजा पंडालों एवं मंदिरों में मां काली के दर्शन के लिए शुक्रवार को श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी। महिलाओं ने देवी काली के पूजा अर्चना कर खौंइछा भरा और प्रसाद चढ़ाया। प्रखंड के कुशेश्वरस्थान बाजार, पकाही, सतीघाट, बलहा एवं चातर में काली पूजा का भव्य आयोजन किया गया है। 4 नवंबर के देर रात इन पूजा पंडालों एवं मंदिरों में वैदिक मंत्रोच्चारण के बीच देवी काली की विधिवत पूजा की गई।

इन पूजा पंडालों एवं मंदिरों को आकर्षक रूप से सजाया गया है। पंडालों एवं मंदिर के परिसर में रंग बिरंगे बिजली बल्वों के जगमगाहट से पूजा स्थल आकर्षक का केंद्र बना हुआ है। चातर पूजा समिति की ओर से 4 नवंबर को गाजे बाजे के साथ भव्य कलश शोभा यात्रा निकाली गई। कोरोना गाइड लाइन का पालन करते हुए पूजा समिति की ओर से मनोरंजन का कार्यक्रम आयोजित नहीं किया गया। पूजा स्थलों पर हो रहे देवी भक्ति गीतों से क्षेत्र भक्तिमय बना हुआ है।

खबरें और भी हैं...