प्रतिरोध मार्च:सरकार निजीकरण नीति को वापस नहीं लेगी तो व्यापक होगा आंदोलन

दरभंगा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रदर्शन करते बैंक यूनियन के सदस्य। - Dainik Bhaskar
प्रदर्शन करते बैंक यूनियन के सदस्य।
  • बैंकों के निजीकरण के खिलाफ निकला प्रतिरोध मार्च

सरकारी बैंकों के निजीकरण के खिलाफ यूनाइटेड फोरम आफ बैंक यूनियन जिला इकाई की ओर से भोगेन्द्र झा आयकर चौराहा पर मंगलवार को प्रतिरोध मार्च निकाला गया। मार्च के दौरान बैंक कर्मचारी सहित किसान व छात्र नेताओं ने मोदी सरकार के निजीकरण के नीति के खिलाफ नारेबाजी कर रहे थे। मार्च के उपरांत एक सभा बैंक यूनियन के नेता अजित सिंह की अध्यक्षता में एक सभा हुई। जिसको सं‍बोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि संघर्ष करके निजी हाथों से निकालकर सरकारी बनाया है। इसे हम फिर निजी हाथों में नहीं जाने देगें।

किसान आन्दोलन के तरह हम बैंक कर्मचारी भी सरकार के खिलाफ आर-पार की लडाई लड़ने के लिए तैयार है। वहीं, 16 और 17 दिसंबर को राष्ट्रव्यापी हड़ताल है। आज हमलोग प्रतिरोध मार्च के साथ ही आन्दोलन का आगाज कर दिए हैं। अगर सरकार अपनी निजीकरण नीति को वापस नहीं लेगी तो और व्यापक आन्दोलन होगा। सभा को सीपीआई के जिला सचिव नारायणजी झा, कर्मचारी नेता फुल कुमार झा, किसान सभा के जिलाध्यक्ष राजीव कुमार चौधरी, एआईएसएफ के जिला सचिव शरद कुमार सिंह, अभिषेक झा, सरोज कुमार सिंह, आनन्द मोहन ठाकुर, कैसर आलम, अभिषेक शंकर, विश्वभर प्रसाद, वरुण कुमार भी थे।

खबरें और भी हैं...