पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना अपडेट:‘राजद के शासनकाल में काेराेना हाेता ताे लाेगाें का जीना मुश्किल हाे जाता’

दरभंगाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

समाज कल्याण मंत्री मदन सहनी ने राजद नेता तेजस्वी यादव के बयान पर पलटवार करते हुये कहा कि आपदा के समय में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के कुशल प्रबंधन से बिहार के लोगों को राहत मिलती है। इसका उदाहरण 2007 में आई प्रलयंकारी बाढ़, कोशी त्रासदी एवं 2011 के सुखाड़ की आपदा राहत है। वैश्विक महामारी कोरोना से पूरा विश्व प्रभावित है। बावजूद बिहार में उपलब्ध संसाधन में मुख्यमंत्री बेहतर आपदा प्रबंधन का कार्य कर रहे है। लोगों को जान बचाने के लिए दिन रात मेहनत कर रहे हैं। कोरोना महामारी के समय तेजस्वी यादव मदद करने के बजाय सरकार से हिसाब बारी करना मरीजों की जान लेने के समान है। उनका यह बयान राजनीतिक अदूरदर्शिता एवं संवेदनहीनता का परिचायक है। मंत्री ने कहा कि राजद के 15 साल के शासन में अस्पताल में पशु बंधा होता था।

अापदा के समय हाे जाते गायब : मंत्री
मंत्री ने यह भी कहा कि हर आपदा के समय प्रतिपक्ष के नेता गायब हो जाते हैं। जबकि उन्हें सरकार का सहयोग करना चाहिए। उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष आई वैश्विक महामारी काेरोना के आपदा के तहत मुख्यमंत्री ने हर वर्ग एवं समुदाय को राहत पहुंचाने का काम किया है। बाहर रह रहे मजदूर को एक हजार की राशि उपलब्ध कराई गई एवं क्वारेंटिन में रहने वाले लोगों के लिए अच्छे संसाधन उपलब्ध कराते हुए पांच हजार तीन सौ रुपए खर्च किए गए। तीन माह की पेंशन एक मुश्त एवं तीन माह की पोशाक एवं छात्रवृत्ति की राशि दी गई है। भारत सरकार की ओर से प्रत्येक राशन कार्डधारी को मुफ्त अनाज उपलब्ध कराया गया। गौरतलब है कि इस वित्तीय वर्ष में भी मुख्यमंत्री ने विधायक एवं विधान पार्षद के ऐच्छिक कोष से तीन करोड़ रुपए की राशि में से दो करोड़ रुपए कोरोना उन्मूलन कोष में दिए गए हैं। जिससे कोरोना की लड़ाई में स्वास्थ्य व्यवस्था को और मजबूत बनाया जा सके। कोरोना मरीज के इलाज के लिए डाक्टर एवं स्वास्थ्य कर्मी दिन रात लगे हैं।

खबरें और भी हैं...