पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

माह-ए-रमजान:कोरोना से निजात की दुआ मांग रहे हैं नन्हे रोजेदार

दरभंगा12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • गर्मी के मौसम में भी पहली बार रोजा रखकर उत्साहित हैं बच्चे, अभिभावक निभा रहे साथ

इबादत की कोई उम्र नहीं होती है। रमजान के पवित्र महीने में रोजेदार रोजा रखकर अल्लाह की इबादत कर रहे हैं। इसमें बच्चे भी पीछे नहीं हैं। प्रखंड क्षेत्र में बड़ी संख्या में बच्चे भी इबादत कर रहे हैं। खासकर ऐसे बच्चे अधिक उत्साहित हैं, जो पहली बार रोजा रख रहे हैं। दिन भर रोजा रखने के बाद शाम को इफ्तार करते हैं। नन्हें मुन्नों को रोजा रखने के लिए मना न कर पाने वाले अभिभावक भी बच्चों की इस पहल में अब उनका साथ निभाने लगे हैं। सेहरी के वक्त उन्हें उठाना, जरूरत के मुताबिक खाना और पानी देने का ख्याल तो कर ही रहे हैं, वहीं दिन भर उनकी सेहत का ख्याल रखते हुए इफ्तार पर भी पसंदीदा चीजें बनाने में भी पीछे नहीं हट रहे हैं। कोरोना महामारी के दौरान इज्तमाई इफ्तार तो नहीं हो पा रहा है, लेकिन घर वाले ही साथ मिलकर इन नन्हें-मुन्ने रोजेदारों का हौसला बढ़ा रहे हैं। बच्चे भी अल्लाह की रजा के लिए रोजा रखकर काफी खुश हैं।

गर्मी में भी भूख-प्यास का एहसास नहीं होता है : शफी अहमद
कुसुमपट्टी कनौर निवासी मो कैस के दस वर्षीय पुत्र मो शफी अहमद ने कहा कि पहले घर में बड़ों को रोजा रखते देख उसे भी रोजा रखने की इच्छा होती थी। शुरू में लगता था कि दिनभर बिना खाए पीए कैसे रह पाएंगे। पर जब रोजा रखना शुरू किया भूख का बिल्कुल एहसास नहीं होता है। यह अल्लाह का करम है। शफी ने कहा कि रोजा रखने से उसका मन एकाग्र रहता है। साथ ही अल्लाह की इबादत करने से सुकून मिलता है। बच्चों के घर वाले भी बच्चों के उत्साह को देखकर काफी खुश हैं।

इस महीने में खूब इबादत करनी चाहिए : निकहत परवीन
चमनपुर निवासी जाबिर हुसैन की सात वर्षीय पुत्री निकहत परवीन का कहना है कि कोई भी त्योहार हो बच्चों के लिए विशेष खुशी लेकर आता है। इस महीने में खूब इबादत करनी चाहिए ताकि अल्लाह हमसे राजी हो जाए। इंसान पानी के बुलबुले की मानिंद है। इसलिए माह ए रमजान में गुनाहों से तौबा कर अपने रब को राजी कर लें। वहीं उन्होंने कहा कि रोजा रखने वाले बच्चे भी बेसब्री से ईद का इंतजार कर रहे हैं। हर साल ईद में उन्हें घर में बड़े लोगों से ईदी मिलती है। जिससे उन्हें खुशी मिलती है।

अल्लाह से कोरोना से निजात की मांग रहे हैं दुआ : मो जावेद
बहुआरा बुजुर्ग निवासी मीर नसीरुल के 12 वर्षीय पुत्र मो जावेद ने कहा कि देशभर में लोगों का जीना मुहाल हो गया है। अल्लाह से दुआ कर रहे हैं कि जल्द से जल्द इस जानलेवा महामारी से देशवासियों को निजात मिले। अहले सुबह से शाम तक रोजा रखकर अल्लाह की इबादत कर रहे हैं। इफ्तार के वक्त अल्लाह पाक से देश की तरक्की, अमन व सलामती की दुआ करते हैं। साल में एक बार बरकतों का महीना रमजान आता है इस पाक महीने में रहमत का दरवाजा खुल जाता है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय कड़ी मेहनत और परीक्षा का है। परंतु फिर भी बदलते परिवेश की वजह से आपने जो कुछ नीतियां बनाई है उनमें सफलता अवश्य मिलेगी। कुछ समय आत्म केंद्रित होकर चिंतन में लगाएं, आपको अपने कई सवालों के उत...

    और पढ़ें