कार्रवाई:दिन के 10:30 बजे तक नहीं खुला था मोइन महुआ विद्यालय का ताला

बहेड़ी8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • एचएम सहित सभी शिक्षक थे नदारद

प्रखंड के अधिकांश विद्यालयों में शिक्षकों के आने व जाने की समय सीमा तय नहीं है। शिक्षक मनमर्जी से विद्यालय आते व जाते हैं। शिक्षकों के नियंत्रण के लिए संकुल स्तर पर सीआरसी तथा बीआरसी स्तर पर बीईओ की जिम्मेवारी रहती है।

लेकिन करीब एक वर्ष के दौरान इस प्रखंड में करीब चार बीईओ का स्थानांतरण हो चुका है। जिसके चलते अधिकांश विद्यालयों के एचएम व सहायक शिक्षकों को खुली छूट है। वहीं जिला के वरीय अधिकारियों भी इनपर अंकुश लगाना मुनासिब नहीं समझते हैं। इसको लेकर ग्रामीण स्तर पर लोगों का मानना है कि नीचे से ऊपर तक के पदाधिकारियों की मिलीभगत से इस प्रकार की आजादी शिक्षकों को है। बता दें कि विद्यालय भूमि कि अतिक्रमण की खबर को लेकर पहुंचने पर मोइन महुआ विद्यालय का ताला भी दिन के करीब 10.30 बजे तक खुला नहीं था ।

साथ ही एचएम सहित अन्य एक भी शिक्षक उपस्थित नहीं थे। जबकि विद्यालय में कुल 9 शिक्षक पदस्थापित हैं। इसको लेकर जब बीईओ राम उदय महतो से दूरभाष पर पूछा गया तो उन्होंने वाट्सएप पर विद्यालय की फोटो भेजने की बात कहते हुए सीआरसी के को-आडिनेटर व एचएम सहित अनुपस्थित शिक्षकों पर कार्रवाई करने की बात कही।

खबरें और भी हैं...