आंदोलन:खाद के लिए मब्बी में एनएच-57 को किया एक घंटे तक जाम, प्रदर्शन

दरभंगाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रदर्शन करते अखिल भारतीय किसान सभा के सदस्य। - Dainik Bhaskar
प्रदर्शन करते अखिल भारतीय किसान सभा के सदस्य।
  • अधिकारियों ने खाद उपलब्ध कराने का दिया आश्वासन, तब माने प्रदर्शनकारी; राज्यव्यापी कार्यक्रम के तहत मब्बी के अलावा धोई व उस्मामथ में सड़क पर उतरे लोग

जिले में रबी फसल के बुआई में किसानों के बीच कभी बारिश तो कभी खाद की किल्लत समस्या बन उभर कर सामने आ जाती है। पहले तो कृषक के सामने लेट तक बारिश होने के कारण निचले हिस्से के खेतों में लम्बे दिनों तक पानी जमा रहने से बुआई में कठिनाई हुई। किन्तु जिन किसानों के पास ऊपरी हिस्से के खेत था, उन्होंने ने खेतों में फसल बुआई के लिए तैयार किए किन्तु बाजार से किसान के द्वारा बुआई पूर्व खेतों में देने वाला खाद डीएपी और पोटाश विलुप्त हो गया। जिसकी वजह से कृषक को बुआई में कई प्रकार के बाधाएं झेलना पर रहा है। इस बीच कृषकों के बीच खाद की समस्या और खेती के लिए परेशानी को लेकर किसान आंदोलित हो उठे हैं। वह विभिन्न बैनर तले आन्दोलन शुरू कर दिए हैं। इस बीच मंगलवार को जहां दरभंगा-मुजफ्फरपुर एनएच 57 को मब्बी में घंटेभर जाम कर यातायात ठप कर दिया। इस वजह से सड़क पर वाहनों की लम्बी लाइन लगी रही। वहीं, हनुमाननगर सहित अन्य जगहों पर प्रदर्शन भी हुआ।

हनुमाननगर में किसान काउंसिल का आक्रोश मार्च

हनुमाननगर|पूरे प्रखंड क्षेत्र में खाद की हो रही कालाबाजारी पर रोक लगाने की मांग को लेकर मंगलवार को हनुमाननगर किसान काउंसिल की ओर से आक्रोश मार्च निकाला गया। इसका नेतृत्व माकपा के प्रखंड सचिव सुधीर पासवान ने किया। मौके पर उपस्थित भीड़ को संबोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि पूरे हनुमाननगर प्रखंड में किसानों का खेत रबी फसल के लिए तैयार है। लेकिन यहां के किसानों को सरकारी दर पर खाद उपलब्ध नहीं कराया जा रहा है। इस प्रखंड के खुदरा खाद विक्रेता खुलेआम खाद की कालाबाजारी कर रहे हैं। वहीं, 1200 रुपए में मिलने वाला डीएपी खाद किसान 1600 रुपए व 260 का यूरिया 300 रुपए में खरीदने पर मजबूर हैं। प्रदर्शनकारियों ने जिला प्रशासन को चुनौती देते हुए कहा कि आगामी 11 नवंबर को कलेक्ट्रेट पर हनुमाननगर के किसान प्रदर्शन करेंगे।

खबरें और भी हैं...