लापरवाही:प्योरिटी टेस्ट 100%, फिर भी डेड लाइन के 45 दिन बाद भी ऑक्सीजन प्लांट को नहीं किया गया चालू

दरभंगा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
डीएमसीएच ओपीडी के सामने लगा आक्सीजन प्लांट। - Dainik Bhaskar
डीएमसीएच ओपीडी के सामने लगा आक्सीजन प्लांट।
  • डीएमसीएच में 15 अगस्त तक ही चालू करना था चारों प्लांट, अब तक एक भी नहीं हुआ

कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिए डीएमसीएच प्रशासन बेपरवाह है। ऑक्सीजन, बच्चों के लिए बेड, आईसीयू और शिशु रोग विशेषज्ञ चिकित्सक आदि की तैयारी करने के सरकार के आदेश काे धत्ता बताते हुए डेड लाइन खत्म होने के 45 दिन बाद भी ऑक्सीजन प्लांट का काम पूरा नहीं हुआ है। डीएमसीएच में 4 ऑक्सीजन प्लांट को 15 अगस्त को ही चालू कर देना था, लेकिन एक भी प्लांट अभी तक चालू नहीं किया जा सका। प्रिंसिपल डॉ. कृपानाथ मिश्रा ने कहा कि ऑक्सीजन प्लांट का ट्रायल कर लिया गया है। प्योरिटी टेस्ट के लिए सैंपल को भेजा गया है। जैसे ही सभी की रिपोर्ट आ जाएगी, वैसे ही प्लांट से ऑक्सीजन की आपूर्ति शुरू कर दी जाएगी।

गेज लाइन जाम होने से लिक्विड वापस कर दिया
एनेथेसिया विभाग के परिसर में स्थापित 20,000 लीटर वाले क्रायोजेनिक प्लांट के लिए लाइसेंस मिल गया है। प्लांट को शुरू करने के लिए जमशेदपुर से लिक्विड ऑक्सीजन आया था। लेकिन गेज लाइन जाम हो जाने से फिर लिक्विड को वापस कर दिया गया। लिंडे कंपनी के जूनियर इंजीनियर बापी साहा ने बताया कि गेज लाइन के जाम को क्लियर किया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...