पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नई व्यवस्था:8-8 घंटों के शिफ्ट में ऑपरेशन के लिए नर्सिंग स्टाफ व पैरामेडिकल स्टाफ की रोस्टर ड्यूटी तैयार

दरभंगाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना काल से बंद पड़े ऑर्थो विभाग में ऑपरेशन फिर से शुरू हो गया। पैर व हाथों के टूटे 5 मरीजों का बुधवार को ऑपरेशन हुआ। विभागाध्यक्ष डॉ. नंद कुमार ने बताया कि एक बड़ी सफलता और मिली है। अब जो भी मरीज ऑपरेशन के लिए यहां आएंगे, सभी का होगा। ऑर्थो विभाग में 24 घंटे ऑपरेशन हो सकेगा। इसके लिए विशेषज्ञों की 8-8 घंटे की शिफ्ट होगी।

इसकी अनुमति मिल चुकी है। नर्सिंग स्टाफ का रोस्टर भी बनाया गया है। पहले जो तीन से चार माह ऑपरेशन के लिए लाइन लगती थी, वह अब नहीं लगेगी। अब जो भी मरीजों को ऑपरेशन की जरूरत होगी, उसके ऑपरेशन में देरी नहीं होगी। जैसे गायनिक व सर्जरी के सीओटी में मरीजों का ऑपरेशन हो रहा है, उसी तरह से अब ऑर्थो विभाग में भी मरीजों का ऑपरेशन हो सकेगा। अभी चार दिनों के लिए एनेस्थेटिस्ट चिकित्सक दिया गया है।

पैर में स्टील निकालने के लिए बार-बार समय बढ़ा रहे डॉक्टर
मधुबनी जिला के लदनियां प्रखंड के महथा गांव के कार्तिक कुमार कामत इलाज कराने के लिए ऑर्थो ओपीडी में पहुंचे थे। उसने बताया कि मेरा दाया पैर में स्टील लगा है। इसे निकालने के लिए एक माह से डीएमसीएच आ रहे हैं, पर यहां के डॉक्टर बार-बार आगे का समय बढ़ा रहे हैं। इस तरह से आजकल करते हुए एक माह हो गया है, लेकिन अभी पैर से स्टील नहीं निकाला गया है। इधर, ऑर्थो वार्ड में भर्ती मधुबनी जिले के ही रामचंद्र साह ने बताया कि बायां पैर में टूटा हुआ है। एक माह से ऑर्थो वार्ड में भर्ती हैं।

खबरें और भी हैं...