छठ महापर्व में 1 दिन शेष:बागमती के घाटों की अब तक नहीं हो पाई सफाई गंदगी में लोग कैसे मनाएंगे आस्था का महापर्व छठ

दरभंगाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिला प्रशासन शिद्दत से जुटा घाटों की सूरत बदलने, खतरनाक घाटों पर की जाएगी बैरिकेडिंग

सूर्योपासना का सबसे बड़ा माहपर्व छठ में अब महज 1 दिन शेष हैं। सोमवार को नहाय-खाय से शुरू हो जाएगा महापर्व, वही मंगलवार को खरना है। उसके अगले दिन यानी बुधवार को संध्या अर्घ्य देन व्रति घाट पर पहुंचेंगे, लेकिन बागमती नदी के घाटों की हालत बद से बदतर बनी हुई है। जिला एवं नगर निगम प्रशासन की शनिवार को नींद खुलते ही शिद्दत से घाटों की सूरत बदलने में जुट गया है। नदी के करीब सभी कच्चे घाटों पर दलदली जमील के कारण खतरनाक बना हुआ है। पक्के घाटों से कचरे की सफाई नहीं हो पाई है। वहीं तालाबों की बदहाली नगर निगम की लापरवाही को दर्शाता है।

वार्ड नंबर 48 के पंडासराय मोहल्ले में स्थित बलुआही पोखर में सफाई के बावजूद कचरे का अंबार लगा हुआ है। घाट पर कचरा अब भी लगा हुआ है। शनिवार को जिला प्रशासन हरकत में आया अौर पदाधिकारी ताबड़तोड़ घाटों का मुआयना करते नजर आए। किलाघाट पुल के नीचे के कच्चे घाट का पहले एसडीओ व डीएसपी ने मुआयना किया। फिर शाम होते-होते डीएम डॉ. त्यागराजन एसएम, मेयर वैजयंती देवी खेड़िया, नगर आयुक्त मनेश कुमार मीणा की पूरी टीम के साथ मुआयना किया। दलदल घाटों पर बैरिकेड करने के साथ ही सुरक्षा के सभी इंतजाम करने का निर्देश दिया। देखते ही देखते नगर निगम की पूरी टीम घाटों की मरम्मती में जुट गया है। इसी प्रकार रामबाग में मूसा घाट पर बड़े क्षेत्र में मिट्टी धसने के कारण दलदल बना हुआ है। रामबाग घाट, चमेनिया घाट, सीएम कॉलेज घाट आदि पर भी गंदगी साफ नहीं की गई है।

किलाघाट के पास बागमती नदी घाट खतरनाक

दरभंगा | छठ महापर्व को लेकर सदर एसडीअाे स्पर्श गुप्ता ने सदर एसडीपीअाे, सदर सीअाे एवं बहादुरपुर सीअाे के साथ सदर अनुमंडल क्षेत्र के 6 छठ घाटों कन्हैया मिश्र पोखर लहेरियासराय, काली मंदिर पोखर सैदनगर, किला घाट नदी छठ घाट, हरिबोल पोखर सैनापत, छठी पोखर सुन्दरपुर, हराही पोखर सुन्दरपुर, बेला, दिग्घी पोखर, गंगासागर पोखर एवं मिर्जा खां तालाब लहेरियासराय का निरीक्षण किया। उन्होंने लाेगाें को कोविड गाइडलाइन का पालन करने के लिए निर्देशित किया।

खबरें और भी हैं...