दुर्गा पूजा:‘रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि’ से गूंजा पूजा-पंडाल

दरभंगा10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
गोविंदपुर दुर्गा मंदिर में कलश स्थापना को लेकर पूजा करते पंडित व यजमान। - Dainik Bhaskar
गोविंदपुर दुर्गा मंदिर में कलश स्थापना को लेकर पूजा करते पंडित व यजमान।
  • मिथिलांचल के शहर से लेकर गांव तक कलश स्थापना के साथ शारदीय नवरात्र शुरू

शारदीय नवरात्र के प्रथम दिन गुरुवार को कलश स्थापना के साथ ही शक्ति की अधिष्ठात्री माता दुर्गा की पूजा-उपासना शुरू हो गई। पहले दिन शैलपुत्री की पूजा हुई। शहर से लेकर गांव तक और घरों में सुबह से ही दुर्गा सप्तशती का पाठ और देवी मंत्र गूंजने लगे। कटहलबाड़ी, लक्ष्मीसागर, दोनार चौक, हसन चौक, वीणापाणि क्लब, केएम टैंक, कटरहिया, सैयद नगर, गोविंदपुर आदि जगहों पर रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषोजहि आदि देवी मंत्र से वातावरण भक्तिमय बन गया। लहेरियासराय बंगाली टाेला स्थित वीणापाणि क्लब से जुड़े श्रद्धालु 130 सालों से अपनी परंपरा के अनुसार भगवती की आराधना करते आ रहे हैं।

बंगाली टाेला के वीणापाणि क्लब में इस बार महाप्रसाद का वितरण नहीं किया जाएगा

इसमें सारे बंगाली परिवार काफी सक्रिय रूप से भाग लेते हैं। क्लब के अध्यक्ष सिद्धार्थ शंकर पालित एवं सचिव नन्हें गोपाल हैं। सदस्य राणा गांगुली का कहना है इस बार क्लब की ओर से महाप्रसाद का वितरण नहीं किया जाएगा। मालूम हो कि यहां का महाप्रसाद बहुत प्रसिद्ध था। श्रद्धालु पैसा से खरीद कर वहीं भोजन करते थे या घर पर ले जाते थे। इस बार ऐसा नहीं हो सकेगा।

खबरें और भी हैं...