पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अनदेखी:हसनपुर के 10 उपकेंद्रों को नहीं है अपना भवन, पंचायत भवन या आंगनबाड़ी केंद्रों में होता है संचालन, परेशानी

हसनपुर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
स्वास्थ्य उपकेंद्र पटसा के भवन की जर्जर स्थिति। - Dainik Bhaskar
स्वास्थ्य उपकेंद्र पटसा के भवन की जर्जर स्थिति।
  • स्वास्थ्य उपकेंद्रों के भवन नहीं होने से इसके संचालन में होती है परेशानी, लोगों को नहीं मिल पा रहा लाभ

प्रखंड के 10 उपकेंद्रों का अपना भवन नहीं है। भवन विहीन इन 10 स्वास्थ्य उपकेंद्रों का संचालन पंचायत भवन अथवा आंगनबाड़ी केंद्र परिसर में होता है। भवन के अभाव में इन स्वास्थ्य उपकेंद्रों के संचालन में परेशानी होती है। उचित व्यवस्था नहीं होने के कारण आमलोगों को इसका समुचित लाभ नहीं मिल पाता। इसके अलावा जिन 8 उपकेंद्रों का अपना भवन है, उनमें कई भवनों की स्थिति काफी जर्जर है। भवन की जर्जर स्थिति के कारण इसमें कार्यरत स्वास्थ्य कर्मी ड्यूटी पर पहुंचने से भी कतराते हैं। चिकित्सा सुविधा नदारद होने के कारण मरीजों का आना भी नहीं के बराबर होता है। जिन उपकेंद्रों का अपना भवन नहीं है, वहां कार्यरत कर्मियों की चांदी कट रही है। भवन के जर्जर स्थिति का बहाना बनाकर कर्मी कभी-कभी पोषक क्षेत्र में भ्रमण कर ड्यूटी की खानापूर्ति करते हैं। इन स्थानों पर नहीं है भवन | प्रखंड के 18 पंचायतों में संचालित स्वास्थ्य उपकेंद्रों में जिन 10 उपकेंद्रों का अपना भवन नहीं है। उनमें मरांची उजागर पंचायत में आंगनबाड़ी केंद्र, भटवन में आंगनबाड़ी केंद्र, शासन में पंचायत भवन, सकरपुरा में आंगनबाड़ी केंद्र, आतापुर में पंचायत भवन, रामपुर रजवा में आंगनबाड़ी केंद्र, बड़गांव में आंगनबाड़ी केंद्र, हसनपुर गांव में आंगनबाड़ी केंद्र, परिदह में आंगनबाड़ी केंद्र परिसर में स्वास्थ्य उपकेंद्र का संचालन हो रहा है। वहीं प्रखंड के काले, देवधा, दूधपुरा, मालीपुर, सुरहा, नयानगर, देवड़ा, पटसा पंचायत में संचालित स्वास्थ्य उपकेंद्र का अपना भवन है। हालांकि पटसा गांव स्थित उपकेंद्र की स्थिति काफी जर्जर है। खंडहर में तब्दील हो रहा यह भवन कब ध्वस्त हो जाए, इसका अंदाजा इसकी जर्जर स्थिति को देखकर ही लगाया जा सकता है। यहां चिकित्सा सुविधा नदारद है।  इसके अलावा देवड़ा स्थित उपकेंद्र की स्थिति भी काफी बदतर है। अवैध अतिक्रमण के कारण इस उपकेंद्र का संचालन नहीं हो रहा है। प्रखंड के कुल 20 पंचायतों में से 18 पंचायतों में स्वास्थ्य उपकेंद्र संचालित है। वहीं शेष 2 पंचायतों मंगलगढ़ व गजपति में अतिरिक्त स्वास्थ्य केंद्र संचालित है। हालांकि इन अतिरिक्त स्वास्थ्य केंद्र की स्थिति बदतर है। गजपति स्थित केंद्र का भवन खंडहर में तब्दील हो रहा है। वहीं मंगलगढ़ स्थित केंद्र का भवन भी उचित देखरेख के अभाव में जर्जर है। यहां कार्यरत स्वास्थ्य कर्मी भगवान भरोसे ही ड्यूटी करते हैं। हालांकि असुविधा को देख इन केंद्रों पर इलाज के लिए मरीजों का आना जाना बंद है।

कहते हैं प्रखंड चिकित्सा पदाधिकारी
^जिन स्वास्थ्य उपकेंद्रों का भवन नहीं है। उसके संबंध में विभाग को लिखा जा चुका है। वहीं जर्जर भवनों के मरम्मतीकरण के लिए भी विभाग को समस्या से अवगत कराया जा चुका है। अभी तक कोई ऐसा आदेश नहीं मिला है कि, समस्या का समाधान संभव हो सके।
डॉ. एसएस. लाल, प्रखंड चिकित्सा पदाधिकारी, हसनपुर

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय अनुसार अपने प्रयासों को अंजाम देते रहें। उचित परिणाम हासिल होंगे। युवा वर्ग अपने लक्ष्य के प्रति ध्यान केंद्रित रखें। समय अनुकूल है इसका भरपूर सदुपयोग करें। कुछ समय अध्यात्म में व्यतीत कर...

    और पढ़ें