पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आवागमन का संभावना:मानव तस्करी अपराध है समाज पर पड़ता है प्रभाव

जयनगर18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

केंद्र सरकार के महिला एवं बाल विकास मंत्रालय की ओर से संचालित चाइल्ड लाइन मधुबनी के द्वारा बुधवार को एसएसबी कमला बीओपी परिसर में मानव तस्करी के संदर्भ में एक कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला के मुख्य अतिथि श्रीमती निर्मला ने अपने सम्बोधन में कहा की मानव तस्करी सबसे घृणित अपराध है। हम सभी आपसी सहयोग से इसे रोका जा सकता है। मानव तस्करी समाज पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है। जिससे समाज एवं देश धीरे धीरे कमजोर होता जाता है। उन्होंने कहा की बाल विवाह, बाल श्रम तस्करी, बच्चों में कुपोषण, कन्या भ्रूण हत्या जैसी समस्याओं को बेहतर तरीके से रोका जा सकता है।

चाइल्डलाइन इस दिशा में केंद्र सरकार की परियोजना को राज्य सरकार के संबंधित विभागों के समन्वय से बेहतर कार्य कर रही है। वक्ताओ ने कहा भारत नेपाल के बीच बेटी रोटी का सम्बंध है। बॉर्डर सदियों से खुली हुई है। जिसका असमाजिक तत्व गलत फायदा उठाने लगे है। मानव तस्करी, प्रतिबंधित नशीली पदार्थ, गोली बारूद आदि चीजो का आवागमन का संभावना बनी रहती है।

इस पर पूरी तरह नियंत्रण पाने के लिए प्रशासन से लेकर आमजनों को भी अलर्ट रहने की आवश्यकता है। सन्नी कुमार, अमृत राज, चंदन कुमार, एसएसबी चन्द्र शेखर यादव, देश राज यादव, पानम लिगो, नीरव कुमार, कुमारी एकता, निक्की, बंधु, वैशाली कुमारी, निर्मला कुमारी, अरुण कुमार, रेखा कुमारी, मंजू देवी, द्रोपती देवी समेत अन्य मौके पर मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...