पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

प्रशासन अलर्ट:9 किमी अतिसंवेदनशील व 2 किमी संवेदनशील तटबंधों पर बढ़ाई गई है निगरानी

जयनगर25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • बालू से पैक बोरियाें का किया जा रहा है स्टॉक

बाढ़ का समय अभी खत्म नही हुआ है। संभावित बाढ़ को देखते हुए विभाग ने 50 हजार बालू से पैक बोरा को स्टॉक करने में जुट गए है। बाढ़ से पूर्व भी विभाग 50 हजार बालू से पैक बोरा का स्टॉक किया था। पहली जुलाई को आई भीषण बाढ़ में तटबंन्ध के सुरक्षा में 50 फिसदी से अधिक बालू से पैक बोरा का यूज कर लिया गया है। कमला प्रमंडल के आधिकारिक सूत्रों ने बताया की कमला की जल स्तर में कमी आते ही बोरा में बालू भरकर स्टॉक करने का काम शुरू कर दिया गया है।

इसबार पहली जुलाई को ही बाढ़ दस्तक दे दी। एक जुलाई को कमला खतरे की निशानी से 1.35 मीटर ऊपर के साथ उफान पर थी। सांतवे दिन कमला की जल स्तर खतरे की निशान से 5 सेमी कम आंका गया। जल स्तर में कमी आने के बाद ही कमला से बालू निकालकर स्टॉक किया जा सकता है। बाढ़ नियंत्रक जयनगर के एसडीओ सतेंद्र प्रसाद राय ने बताया की संभावित बाढ़ को देखते हुए बालू से पैक बोरा का स्टॉक करने का लक्ष्य है। ताकि विषम परिस्थितियों में परेशानिया का सामना नही करना पड़े। उन्होंने कहा चार जुलाई के शाम से ही सेलरा वार्ड 10 के नजदीक तटबंन्ध में तेजी से रिसाव होने लगा था। एक हॉल सा बन गया था। यदि ससमय इसे बन्द नही किया जाता तो तटबंन्ध टूट सकता था। कई गांव बाढ़ की पानी मे बह जाता। लेकिब पूर्व से जमा किये गए बालू से भरी बोरा का ही प्रयोग कर तटबंन्ध को टूटने से बचाया गया। इसलिए सम्भावित बाढ़ को देखते हुए अभी से ही आवश्यक तैयारियां शुरू कर दी गई है।

कमला प्रमंडल के अधिकारियों ने तटबंधों पर फोकस तेज कर दिया है। अतिसंवेदनशी एवं संवेदनशील तटबंधों पर निगरानी बढ़ा दी गई है। कमला की बायां तटबंन्ध 0 से 0.6 किमी तक एवं 08 से 10.7 किमी तक भी अतिसंवेदनशील है। वही दाहिना तटबंन्ध 1.5 से 6 किमी तक एवं 9.5 से 11 किमी तक अतिसंवेदनशी है। इसके अलावा दाहिने तटबंन्ध के 02 से 03 किमी तक एवं 06 से 07 किमी तक संवेदनशील है। इन सभी अतिसंवेदनशील एवं संवेदनशील जगहो के आस पास बालू से भरी बोरा का स्टॉक किया गया है ताकि ससमय उतपन्न समस्याओं से निपटा जा सके।

खबरें और भी हैं...