पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आक्राेश:उपस्वास्थ्य केंद्रों को चालू करने की मांग कर एनएच काे किया जाम

जयनगर18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मांगों को लेकर एनएच जाम करते भाकपा-माले कार्यकर्ता। - Dainik Bhaskar
मांगों को लेकर एनएच जाम करते भाकपा-माले कार्यकर्ता।
  • स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही से हुई मौत पर 10 लाख रुपए देने की मांग की

भाकपा-माले जयनगर इकाई के कार्यकर्ताओं ने सरकार के स्वास्थ्य विभाग की लचर व्यवस्था को लेकर रविवार को एनएच-104 को जाम किया है। कोरोना वैश्विक महामारी में भी प्रखंड के सभी बंद पड़े स्वास्थ्य उपकेंद्रों को चालू नहीं करवाने एवं संक्रमण काल में स्वास्थ्य विभाग के लापरवाही के वजह से जिन-जिन लोगों का मौत हुआ है उनके परिजनों व आश्रितों को मुआवजे के रूप में 10-10 लाख रुपये देने की मांग को लेकर भाकपा माले जयनगर इकाई के कार्यकर्ताओं में देवधा भगवती चौक पर एनएच 104 करीब एक घंटे तक चक्का जाम किया।

समस्याओं के निदान को लेकर चक्का जाम कार्यक्रम में स्थानीय लोगों ने भी भाग लिया। स्वास्थ्य विभाग की लचर व्यवस्था को लेकर चक्का जामकर्ताओं ने प्रशासन के विरुद्ध जमकर नारेबाजी किया। करीब एक घंटा तक एनएच जाम होने से कुछ देर के लिए यातायात जरूर प्रभावित हुआ। लेकिन कार्यकर्ताओ ने शहरी एवं ग्रामीण इलाकों के स्वास्थ्य केंद्रों को बेहतर बनाने को लेकर आवाज बुलंद करते रहे। जाम स्थल पर आयोजित सभा को संबोधित करते हुए भाकपा माले के प्रखंड सचिव भूषण सिंह ने कहा कि बिहार सरकार के स्वास्थ्य व्यवस्था टांय-टांय फीस है।

बेहतर इलाज एवं दवा के अभाव में लोगों की मौते हो रही है। और सिस्टम चुप है। जो सिस्टम की पोल खोल रही है। उन्होंने कहा कि देवधा सहित प्रखंड के करीब सभी ग्राम पंचायतों का स्वास्थ्य उप केंद्र वर्षों से बंद है। प्रशासन भी इस महत्वपूर्ण दिशा की ओर ध्यान नहीं दे रही है। जिसके कारण स्वास्थ्य उपकेंद्र अतिक्रम के शिकार हो गए है। अधिकतर स्वास्थ्य उपकेंद्रों का उपयोग लोग मवेशियों के चारागाह के रूप में कर रहे है। इसे कोई देखने वाला नहीं है।

स्वास्थ्य सुविधा मुहैया नहीं करा पा रही है सरकार

वक्ताओं ने अपने संबोधन में कहा कि सिस्टम फेल यानी सरकार हर मोर्चे पर फ्लॉप साबित हो रही है। हर व्यक्ति की अधिकार है कि उन्हें अच्छे स्वास्थ्य मुहैया उपलब्ध हो। लेकिन सरकार एवं प्रशासन बेहतर स्वास्थ्य सेवा मुहैया नहीं करवा पा रही है। तो आम गरीब जनता जाए तो जाए कहा। उन्होंने कोरोना काल में हुई मौत के परिजनों को मुआवजे के रूप में 10-10 लाख रुपये देने की मांग सरकार एवं प्रशासन से की है। वक्ताओं ने बंद पड़े सभी स्वास्थ्य उपकेंद्र पर हुए अवैध कब्जा को हटाते हुए अविलंब विधिवत स्वास्थ्य केंद्रों को चालू करवाने की मांग प्रशासन से किया है। सभा को समर्थन देते हुए राजद नेता सह देवधा मध्य के मुखिया असलम अंसारी, नरेश ठाकुर, मुस्तफा, मनोज सिंह, आदिल आदि ने संबोधित किया।

खबरें और भी हैं...