पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पौधरोपण कार्यक्रम:पीपल का पेड़ लाेगाें काे दिन-रात ऑक्सीजन देता हैै : राजेश माेहन

जयनगर10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना काल में ऑक्सीजन की महत्ता ने लोगों को जागृत कर दिया है। इसलिए कोरोना काल मे इस बार विश्व पर्यावरण दिवस पर अधिकतर जगहों पर पौधरोपण कार्यक्रम के दौरान पीपल के ही पौधे लगाए गए। स्टेशन परिसर में विश्व पर्यावरण दिवस पर पौधरोपण कार्यक्रम के दौरान स्टेशन सुप्रिडेंट राजेश मोहन मलिक ने कहा कि पीपल का वृक्ष ही दिन-रात ऑक्सीजन यानी जीवन प्रदान करता है।

इसलिए पीपल का वृक्ष देवतुल्य है। वह साक्षत ईश्वर है जो सभी को प्राण प्रदान करता है। उन्होंने कहा बढ़ते प्रदूषण की वजह से पृथ्वी ग्लोबल वार्मिंग की चपेट में है। इसकी वजह से आए दिन लोग एक से बढ़कर एक खतरनाक बीमारियों की चपेट में आ रहे है। वायरस के नए नए वेरियंट आ रहे है। इसलिए हर व्यक्ति को एक पौधा लगाने की जरूरत है। बढ़ते प्रदूषण की वजह से जिंदगी दांव पर लग गई है। कोरोना वायरस से आज धरती तबाह है। इससे बचने के लिए और आने वाले पीढ़ी को स्वच्छ वातावरण देने के लिए पर्यावरण के प्रति संकल्प लेना होगा।

स्टेशन परिसर में कई पीपल व छायेदार पौधे लगाने के दौरान उन्होंने कहा कि एक व्यक्ति एक साल में 740 किलो ऑक्सीजन ग्रहण करता है। जबकि एक पेड़ एक साल में मात्र 100 किलो ऑक्सीजन बनाता है। इस प्रकार से एक व्यक्ति एक साल में सात से आठ पेड़ से बने ऑक्सीजन को ग्रहण करता है। यदि व्यक्ति पौधे लगाने के बदले पेड़ काटेगा तो पृथ्वी का विनाश होना तय माना जाएगा।

खबरें और भी हैं...