काम के दाैरान हादसा:कंपनी व डीवीसी के लोग बिना पोस्टमार्टम के और मुआवजा दिए शव को पैतृक आवास भेजा

जयनगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोडरमा ताप विद्युत केंद्र के एसआर टर्बो प्राइवेट लिमिटेड कंपनी में काम के दाैरान हादसा

कोडरमा ताप विद्युत केंद्र के एसआर टर्बो प्राइवेट लिमिटेड कंपनी में पाइपलाइन के फिटर के रूप में कार्यरत एक मजदूर काम करने के दौरान 15 फीट की ऊंचाई से गिरने से मौत हो गई। घटना सोमवार की रात लगभग 7:30 बजे की है।

मृतक की पहचान पतरातू थाना क्षेत्र के ग्राम बरतुवा निवासी कलेंद्र सिंह 50 वर्ष के की गई है। घटना के बाद कंपनी की ओर से मृतक कलेंद्र सिंह का शव बिना मुआवजा दिए उनके गांव पहुंचा देने के विरोध में मंगलवार की सुबह 9 से 1 बजे तक मजदूरों ने यूनियन नेता एक्टू जिला संयोजक विजय पासवान के नेतृत्व प्लांट के गेट नंबर 1 के समीप पूरी तरह जाम धरने पर बैठ गये थे।

इस दौरान मजदूरों ने 5 घंटे तक एक भी अधिकारियों व मजदूर को प्लांट में प्रवेश नहीं होने दिए। बाद में जयनगर पुलिस ने पतरातू पुलिस के सहयोग से मृतक कालेंद्र सिंह का शव उनके पैतृक आवास बरतूवा से अपने कब्जे में लेते हुए पोस्टमार्टम के लिए रांची रिम्स भेजा।

इधर शव पोस्टमार्टम के लिए रांची भेज देने के बाद के जाम कर धरना पर बैठे मजदूरों ने जाम हटा लिया। यूनियन नेता विजय पासवान ने बताया कि पोस्टमार्टम के बाद शव को प्लांट परिसर लाकर मुआवजे की मांग कि जाएगा। मुआवजा नहीं देने पर मजदूर पुनः आंदोलन करेंगे। यूनियन नेता विजय पासवान ने बताया कि डीवीसी व कंपनी की मिलीभगत से मजदूरों को शोषण किया जा रहा है। डीवीसी व कंपनी के लोग मजदूरों की सुरक्षा पर हमेशा लापरवाही बरती जा रही है।डीवीसी प्रबंधन के लापरवाही से पिछले 26 अगस्त को प्लांट परिसर में एक बड़ा हादसा हुआ था जिसमें कंपनी के एक एमडी, डीएम सहित दो इंजीनियर की मौत हुई थी।

प्लांट में मजदूरों के सेफ्टी को दरकिनार कर कार्य कराया जाता है। नतीजतन आए दिन घटना घट रही है। मौके पर विनोद पासवान, शशि यादव, अरविंद यादव, रंजीत सिंह, मिथू गोराय, दीपक साव, विजय यादव, मधु यादव, राधेश्याम यादव, विनोद चौधरी, इरफान अंसारी, सिकंदर यादव, छोटू महतो, नागेश्वर यादव, महेंद्र सिंह, अभिषेक कुमार, उमेश यादव, सुरेंद्र यादव सहित दर्जनों मजदूर मौजूद थे। जानकारी अनुसार मजदूर कलेंद्र सिंह डीवीसी केटीपीएस के एसआर टर्बो कंपनी में फिटर के रूप में काम करता था। सोमवार को संध्या 7:00 बजे अपने कार्य करने के दौरान 15 फीट की ऊंचाई से गिरने से गंभीर रूप से घायल हो गया।

घायल के बाद आसपास मजदूरों एवं कंपनी के लोगों ने उसे इलाज के लिए सदर अस्पताल भेजा गया जहां गंभीर स्थिति देखते हुए चिकित्सकों ने उसे रांची रिम्स रेफर कर दिया जहां रास्ते में उसकी मौत हो गई। मजदूर कलेंद्र सिंह की मौत होने के बाद लोगो को सूचना नहीं दी गई और कंपनी व डीवीसी के लोगो ने बिना पोस्टमार्टम किए व मुआवजा दिए शव को आनन-फानन में बिना पैतृक आवास भेज दिया गया।

खबरें और भी हैं...