चयन:58 सीटों पर 43 का चयन, 15 सीट रिक्त

मधेपुरा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शनिवार को निरीक्षण के दौरान निर्देश देते डीईओ । - Dainik Bhaskar
शनिवार को निरीक्षण के दौरान निर्देश देते डीईओ ।
  • 13 प्रखंड नियोजन इकाई के लिए चार केंद्रों पर हुई काउंसिलिंग

जिले के 13 प्रखंड नियोजन इकाई के लिए शनिवार को जिला मुख्यालय के चार केंद्रों पर काउंसिलिंग हुई। शहर के केशव कन्या प्लस टू विद्यालय में आलमनगर, चौसा एवं कुमारखंड, एसएनपीएम प्लस टू विद्यालय में बिहारीगंज, ग्वालपाड़ा एवं शंकरपुर, टीपी कॉलिजिएट प्लस टू विद्यालय में उदाकिशुनगंज एवं पुरैनी, टीपी कॉलेज में मधेपुरा, घैलाढ़, गम्हरिया एवं मुरलीगंज प्रखंड के लिए कक्षा 6 से 8 के सामाजिक विज्ञान के कुल 58 सीट के लिए काउंसिलिंग हुई। सभी प्रखंड की कुल 58 सीटों के लिए लगभग 11 हजार से भी अधिक अभ्यर्थियों की मेधा सूची जारी की गई थी। सामाजिक विज्ञान में सबसे अधिक 8 सीट कुमारखंड प्रखंड नियोजन इकाई में लगभग 1834 अभ्यर्थियों का मेधा सूची में नाम जारी किया गया था। वहीं गम्हरिया प्रखंड नियोजन इकाई में सामजिक विज्ञान की कोई सीट नहीं थी। प्रत्येक अभ्यर्थी का नाम लाउडस्पीकर से माध्यम से पुकारा जा रहा था। डीईओ वीरेंद्र नारायण बारी-बारी से सभी काउंसिलिंग केंद्रों पर जाकर जायजा लिए। वहीं एसएनपीएम प्लस टू विद्यालय में काउंसिलिंग का सदर एसडीएम नीरज कुमार ने निरीक्षण किया। मधेपुरा में तीन, कुमारखंड में छह, मुरलीगंज में चार, बिहारीगंज में दो, ग्वालपाड़ा में दो, उदाकिशुनगंज में चार, आलमनगर में 5, चौसा में 5, पुरैनी में तीन, सिंहेश्वर में दो, शंकरपुर में चार, घैलाढ़ में दो बहाली हुई। 58 सीटों पर 43 का चयन किया गया। 15 सीट रिक्त रह गई।

अभ्यर्थी के परिजनों ने किया हंगामा
टीपी काॅलेज में मुरलीगंज प्रखंड नियोजन ईकाई में डीईओ वीरेंद्र नारायण की मौजूदगी में मुरलीगंज की एक अभ्यर्थी लीला कुमारी के परिजनों ने हंगामा करना शुरू कर दिया। परिजनों का कहना था कि यूआरएफ सीट पर जिस अभ्यर्थी काे होना था, उसकी काउंसिलिंग नहीं कराकर दूसरे अभ्यर्थी का कराया गया है। उनका कहना था कि आरएफ सीट पर लीला कुमारी को हाेना चाहिए था। लेकिन रीतू कुमारी की काउंसिलिंग करा दी गई। डीईओ ने कहा कि हंगामा कर रहे अभ्यर्थी के परिजन गलत दावा कर दूसरे अभ्यर्थी का दस्तावेज देखने की मांग कर रहे थे। यह काउंसिलिंग अधिकारी के अलावा किसी अन्य अभ्यर्थी को देखने का अधिकार नहीं है।

खबरें और भी हैं...