पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सीमा विवाद में उलझी पुलिस:चौसा में सड़क दुर्घटना के बाद आलमनगर के एक युवक को गायब कर दिया, 2 माह में भी केस नहीं

मनीष वत्स |मधेपुरा13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पीड़ित परिजन, जो न्याय के लिए दोनों थानों का चक्कर लगा रहे हैं। - Dainik Bhaskar
पीड़ित परिजन, जो न्याय के लिए दोनों थानों का चक्कर लगा रहे हैं।
  • 21 मई की घटना के बाद से पीड़ित परिजन लगा रहे हैं दोनों थाने का चक्कर
  • देर होने के कारण मामले की जांच पर भी पड़ेगा असर
  • आलमनगर थानाध्यक्ष-चौसा क्षेत्र में हुई घटना, वहीं दर्ज होगा केस ,चौसा थानाध्यक्ष- यहां पता नहीं चल रहा, आलमनगर में ही होगी प्राथमिकी

एक पिता का जवान बेटा श्राद्ध में शामिल होने के लिए अपने ननिहाल जा रहा था। रास्ते में एक ट्रैक्टर से उसे ठोकर लग गई। ट्रैक्टर वाले की दबंगई देखिए...युवक को उसकी बाइक समेत गायब कर दिया। शायद गंभीर रूप से घायल होने के बाद उसकी मौत हो गई तो पुलिस केस से बचने के लिए दबंग ट्रैक्टर वाले ने उसकी लाश को कहीं दफना या फेंक दिया। उस जवान बेटे का पिता, उसकी मां और भाई कई साक्ष्यों के साथ उदाकिशुनगंज के एसडीपीओ से लेकर चौसा अौर आलमनगर थाने का ठीक दो माह से चक्कर काट रहा है। पर, प्लेस ऑफ ऑक्रेंस (चिह्नित घटना स्थल) की पहचान धुंधली होने के चक्कर में फंसाकर अनुसंधान करना तो दूर, पुलिस अबतब केस भी दर्ज नहीं कर पाई है। पीड़ित पक्ष आलमनगर थानाक्षेत्र के गनौल बड़ीखाल के निवासी हैं और घटना चौसा थाना क्षेत्र के भटगामा चौक के आसपास का बताया जा रहा है। चौसा थानाध्यक्ष रवीश कुमार रंजन का कहना है कि उनके यहां घटना स्थल का पता नहीं चल रहा है, इसलिए आलमनगर में केस होगा और वह जांच में मदद करेंगे। जबकि आलमनगर थानाध्यक्ष उदय कुमार का कहना है कि मेरे क्षेत्र से लड़का निकल चुका था। चौसा थाना क्षेत्र में घटना हुई, केस भी वहीं होगा। ऐसे में सवाल यह कि जब केस ही दर्ज नहीं होगा, तो पता कैसे चलेगा कि घटना सही है या झूठा। दो माह बीत भी चुके हैं।

पीड़ित पिता ने तीन लोगों पर लगाया है हत्या का आरोप
गनौल बड़ीखाल निवासी सुभाष मंडल का कहना है कि ग्रामीण पिंटू कुमार की बीआर 11 एएफ 7716 नंबर की हीरो ग्लेमर बाइक लेकर उनका 18 वर्षीय पुत्र नवीश कुमार 21 मई को अपने ननिहाल कदवा श्राद्धकर्म में दही लेकर गया था। नवीश, जब देर रात तक अपने ननिहल कदवा नहीं पहुंचा ताे छानबीन के क्रम में संबंधियों ने बताया कि नवीश से भटगामा चौक तक बात हुई थी। उसके बाद फोन स्विच आफ हो गया। पीड़ित पिता का कहना है कि खोजबीन के दौरान आन्तरिक रूप से पता चला कि खोपड़िया निवासी विकास कुमार िसंह उर्फ पल्लो, गनौरी सिंह, राकेश कुमार ने मिलकर अप्रिय घटना को अंजाम देकर पुत्र की हत्या कर शव एवं गाड़ी को गुम कर दिया है।

दोबारा जानकारी नहीं दी पीड़ित का केस दर्ज होगा
पीड़ित पक्ष आए थे। उन्हें कहा गया कि केस हो जाएगा। यदि उनके बताए स्थान पर घटना होने की बात कोई बताएगा तो चौसा थाना में केस होगा। अन्यथा आलमनगर थाना में केस दर्ज होगा। केस दर्ज हुआ या नहीं, पीड़ित ने दोबारा इसकी जानकारी नहीं दी।
-सतीश कुमार, एसडीपीओ, उदाकिशुनगंज

केस आलमनगर में होगा, चौसा पुलिस जांच में सहयोग करेगी: रवीश कुमार
चौसा थानाध्यक्ष रवीश कुमार रंजन कहते हैं कि घटना आलमनगर थाना क्षेत्र का है। वहां थाना में इंट्री भी हुआ है। वहीं के पदाधिकारी अनुसंधान करेंगे। इसमें हम (चौसा पुलिस) सहयोग करेंगे। रवीश रंजन समझाते भी हैं। कहते हैं कि लड़का आलमनगर क्षेत्र के घर से निकला था। कहां गया, क्या पता। सो वहीं की पुलिस केस दर्ज करेगी। हमलोगों भी नवगछिया, भागलपुर जाते हैं, तो वहां की पुलिस जांच में सहयोग करती है। हमने पूरी जानकारी एसडीपीओ को दे दी है।

घटना चौसा थाना क्षेत्र की है, वहीं पर एफआईआर दर्ज होगी: उदय कुमार
मामला मेरे पास भी आया था। पीड़ित का कहना है कि ननिहाल जाने के लिए उनका बेटा अपने घर से निकला था। चौसा थाना क्षेत्र में उसकी दुर्घटना हुई, तो केस भी तो चौसा थाना में ही दर्ज होगा। लड़के के पिता के सामने ही मैंने चौसा के थानाध्यक्ष से बात कर घटना की जानकारी दी थी। उन्होंने कहा था कि भेज दीजिए। उदय कुमार कहते हैं कि लड़के का पिता खुद ही कह रहे हैं कि घटना चौसा थाना क्षेत्र में हुई, तो हम आलमनगर में कैसे केस दर्ज करेंगे।

खबरें और भी हैं...