विरोध:जातीय जनगणना संवैधानिक अधिकार समाज से दूर होगी विषमता : जयकांत

मधेपुरा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शनिवार को विरोध-प्रदर्शन के दौरान मौजूद राजद विधायक, जिलाध्यक्ष और अन्य। - Dainik Bhaskar
शनिवार को विरोध-प्रदर्शन के दौरान मौजूद राजद विधायक, जिलाध्यक्ष और अन्य।
  • मंडल दिवस पर राजद ने जातीय जनगणना समेत अन्य मांगों को लेकर किया प्रदर्शन
  • सिंहेश्वर के विधायक ने कहा- सरकार अब इस व्यवस्था को खत्म करने पर तुली है

मंडल दिवस के अवसर पर शनिवार को राष्ट्रीय जनता दल द्वारा जातीय जनगणना समेत अन्य मांगों को लेकर प्रदर्शन किया गया। राजद के जिलाध्यक्ष जयकांत यादव की अध्यक्षता में आयोजित कार्यक्रम में बड़ी संख्या में कार्यकर्ता शामिल हुए। इस अवसर पर जिलाध्यक्ष ने कहा कि सात अगस्त 1990 को देश में जनता दल की सरकार ने तत्कालीन प्रधानमंत्री विश्वनाथ प्रताप सिंह के नेतृत्व में बीपी मंडल आयोग की अनुशंसा को लागू किया था। जातीय जनगणना संवैधानिक अधिकार है। इसके माध्यम से ही सामाजिक और आर्थिक विषमता को दूर किया जा सकता है। लेकिन सरकार इसे विखंडित कर लागू करना नहीं चाहती है, जो राजद बर्दाश्त नहीं करेगा। सिंहेश्वर के विधायक चंद्रहास चौपाल ने कहा कि पूंजीपति व दमनकारियों की सरकार अब इस व्यवस्था को खत्म करने पर तुली है। यदि जातिगत जनगणना नहीं कराई जाती है तो एससी-एसटी, ओबीसी, और गरीब सवर्णों को आरक्षण का समुचित लाभ नहीं मिलेगा। जिला संगठन प्रभारी डॉ. उपेंद्र प्रसाद यादव ने कहा कि राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू प्रसाद के प्रयास व योगदान से देश के बहुजन समाज को समाज की मुख्यधारा में शामिल होने का मार्ग प्रशस्त हुआ। लालू प्रसाद की देन है कि पिछड़े, दलित व अल्पसंख्यक बड़ी संख्या में समाज में अपनी दमदार उपस्थिति दर्ज करा रहे हैं। लेकिन केंद्र सरकार इस बदलाव को बर्दाश्त नहीं कर रही है। प्रदेश महासचिव विजेंद्र प्रसाद यादव ने कहा कि जातीय जनगणना केंद्र सरकार नहीं कराना चाहती है। सरकार कहती है कि जातीय जनगणना कराने से समाज में तनाव बढ़ेगा। ऐसा भड़काऊ बयान देकर समुचित आरक्षण के लाभ से वंचित करना चाहती है। पूर्व प्रत्याशी नवीन कुमार निषाद और प्रो. जवाहर पासवान ने कहा कि मंडल आयोग की सभी अनुशंसा लागू किए बिना पिछड़ों को समाज की मुख्यधारा में जोड़ना संभव नहीं होगा। उन्होंने कहा कि बीपी मंडल की अनुशंसा को शत-प्रतिशत लागू करने के लिए राजद संघर्ष करेगा। कृष्ण यादव व श्यामसुंदर यादव ने कहा कि आरक्षण में बैकलॉग भरने की व्यवस्था लागू की जाए।
जातिगत जनगणना आज की जरूरत है : संदीप
युवा राजद के प्रदेश महासचिव व फ्रेंड्स ऑफ तेजस्वी के प्रदेश संयोजक संदीप यादव ने कहा कि जातिगत जनगणना आज की सबसे बड़ी जरूरत है। फिर भी केंद्र सरकार इसकी अनदेखी करना चाहती है। जिसकी जितनी हिस्सेदारी, उसकी उतनी भागीदारी होनी चाहिए। जब तक यह पता ही नहीं चलेगा कि भारत की जनगणना में किस जाति के कितने लोग हैं, तब तक हिस्सेदारी सुनिश्चित करना मुश्किल है। इसलिए जातिगत जनगणना आज की जरूरत है और इसे हम करवा कर ही रहेंगे। जिस देश में पशु-पक्षी तक की गणना की जाती है, उस देश में जातिगत जनगणना से सरकार क्यों भाग रही है। कहीं न कहीं सरकार के मन में काला है। वह पिछड़ों, वंचितो, दलितों के हक को मारना चाहती है, जो राजद कभी होने नहीं देगा। इस अवसर पर प्रो. अरविंद कुमार, रामकृष्ण पोद्दार, दिनेशचंद्र यादव, अरविंद यादव, मो. नजीरऊद्दीन नूरी, जयप्रकाश यादव, डॉ. राजेश रतन मुन्ना, डॉ. देवप्रकाश, डॉ. विजय कुमार, डॉ. सुरेश कुमार, रामकृष्ण यादव, प्रो. रामचंद्र मंडल, कापेश्वर सिंह निषाद, बैजनाथ पासवान, विकास चंद्र यादव, विकास अकेला, अनिता कुमारी, विनीता भारती, संजीव कुमार, मुकेश सरदार, मो. लुकमान आलम, चंद्रवंश यादव, प्रो. देवेंद्र यादव, अमरेंद्र यादव, संत कुमार, भारत भूषण, अर्जुन यादव, अरविंद यादव व किशोर यादव सहित अन्य भी मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...