पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

विरोध:हॉस्टल में रह रहे छात्र की मौत, परिजनों ने लगाया हत्या का आरोप, 5 घंटे सड़क जाम

मधेपुरा12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
आक्रोशित लोगों को समझाती पुलिस व जनप्रतिनिधि। - Dainik Bhaskar
आक्रोशित लोगों को समझाती पुलिस व जनप्रतिनिधि।
  • गम्हरिया बाजार के बभनी रोड में सेंट माइकल स्कूल का छात्र था सत्यम
  • स्कूल संचालक बोले-पेट में था दर्द, ले जा रहे थे अस्पताल, रास्ते में हो गई मौत

गम्हरिया में एक प्राइवेट स्कूल के हॉस्टल में रह रहे एक 12 वर्षीय छात्र की संदिग्ध मौत हो गई। परिजनों ने छात्र की मौत को हत्या का आरोप लगाकर थाना में आवेदन दिया है। बुधवार की सुबह में परिजनों ने शव को घर पर रखकर सुपौल-सिहेश्वर पथ को टोका गांव के समीप सुबह में 8 बजे के आसपास जाम कर दिया। परिजनों की मांग थी कि जिला से वरीय अधिकारी आएं और मामले की जांच करें।

बाद में सदर एसडीएम नीरज कुमार व एसडीपीओ अजय नारायण यादव ने पहुंचकर एक सप्ताह में कार्रवाई किए जाने का आश्वासन दिया, तो लोगों ने दोपहर एक बजे के आसपास रोड जाम हटाया। जानकारी के अनुसार गम्हरिया बस स्टैंड से बभनी जाने वाली सड़क के समीप सेंट माइकल स्कूल है। इसमें चौथी कक्षा के छात्र सत्यम कुमार पिछले 4 वर्षों से छात्रावास में रह कर पढ़ रहा था।

थाना को दिए आवेदन में कहा गया है कि बुधवार की सुबह स्कूल संचालक गौरव कुमार ने परिजनों को सूचना दी कि सत्यम कुमार की तबीयत काफी खराब है। जिसे इलाज के लिए मधेपुरा मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है।

जिसके बाद परिजन मेडिकल कॉलेज पहुंचे, तो मेडिकल कॉलेज के मुख्य गेट पर एक कंबल से सत्यम कुमार का शव ढका हुआ मिला। इसपर परिजन देखकर अचंभित रह गए। जिसके बाद शव को उठाकर परिजन अपने घर लक्ष्मीनिया लेकर आ गए।

स्कूल संचालक और शिक्षकों पर कार्रवाई करने की मांग

लोगों ने टोका में सुपौल-सिहेश्वर पथ को जाम कर दिया।

थानाध्यक्ष अमित कुमार राय दल बल के साथ पहुंचकर लोगों को समझाने के लिए बहुत कोशिश की। लेकिन ग्रामीणों ने एक भी बात नहीं मानी। ग्रामीणों का कहना था कि स्कूल संचालक व शिक्षकों पर कार्रवाई हो। मौके पर प्रमुख शशि कुमार, जिला परिषद प्रतिनिधि रवि शंकर उर्फ पिंटू यादव, सीओ बुच्ची कुमारी, प्रखंड विकास पदाधिकारी अलीशा कुमारी आदि मौजूद थीं। बाद में मुरालीगंज के मुख्य पार्षद श्वेत कमल बौआ ने भी पहुंचकर पीड़ित परिजन को सांत्वना दी।

सत्यम की मां बोली-फीस नहीं देने पर होली में घर जाने नहीं दिया गया था

सत्यम कुमार की मां कविता देवी ने बताया कि होली से 1 दिन पहले वह बेटे को घर लाने के लिए स्कूल गई थी। लेकिन स्कूल संचालक गौरव कुमार ने कहा कि आपके बच्चे के पास फीस बाकी है। वह दीजिएगा तब जाने देंगे। जिसके बाद वह स्कूल से आ गई।

फिर बीते मंगलवार को बकाया फीस 5000 रुपया देने के बाद बच्चा से मिलाने कि बात कही, तो स्कूल संचालक ने कहा कि अभी बच्चा पढ़ाई कर रहा है। उसका ध्यान घर की ओर चला जाएगा। दूसरे दिन आकर मिल लीजिएगा। लेकिन अगले ही दिन अशुभ घटना हो गई।

बंद के आदेश के बाद भी स्कूल खुले रहने पर लोगों ने उठाए सवाल

लोगों ने प्रशासन पर आरोप लगाया कि बढ़ते करोना को लेकर बिहार सरकार ने स्कूल और कोचिंग को बंद करने का आदेश दिया था। बावजूद किस परिस्थिति में अन्य कई स्कूलों की तरह सेंट माइकल स्कूल और उसका हॉस्टल चल रहा था।

वहीं, लोगों ने आरोप लगाया कि जब मंगलवार को बच्चा की मां मिलने के लिए गई तो बच्चा से क्यों नहीं मिलने दिया गया। लोगों ने बताया कि बालक को मारा पीटा गया है, जिसके कारण उसकी तबियत मंगलवार की शाम को ही खराब हो गई थी। तो परिजनों को शाम को ही क्यों नहीं सूचना दी गई।

आरोप निराधार है, छात्र की मौत होने से हमसभी लोग मर्माहत हैं

छात्र को पेट में दर्द था। दवाई देने पर आराम हो गया। दोबारा दर्द शुरू हो गया। इलाज के लिए मेडिकल कॉलेज ले जा रहे थे। सिंहेश्वर के आसपास एक गाड़ी खराब होने के कारण जाम में फंस गए, अस्पताल पहुंचने में देर हो गई। सत्यम मेरे घर के बच्चे जैसा था। यह महज कुसंयोग था। उसकी मौत में स्कूल से संबंधित किसी भी व्यक्ति का हाथ नहीं है। परिजन के प्रति स्कूल परिवार की सद्भावना है। हमलोग भी मर्माहत हैं। गौरव कुमार, स्कूल संचालक

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- कुछ रचनात्मक तथा सामाजिक कार्यों में आपका अधिकतर समय व्यतीत होगा। मीडिया तथा संपर्क सूत्रों संबंधी गतिविधियों में अपना विशेष ध्यान केंद्रित रखें, आपको कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती हैं। अनुभव...

    और पढ़ें