पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

कार्यक्रम:देश की एकता व अखंडता की रीढ़ है हिंदी : मधेपुरी

मधेपुरा11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
ऑनलाइन कार्यक्रम में शामिल डॉ. मधेपुरी।
  • हिंदी दिवस पर वर्चुअल संगोष्ठी का आयोजन, वक्ताओं ने रखे अपने-अपने विचार

भारत को समेटकर रखने में हिंदी की अहम भूमिका है। यही कारण है कि हिंदी को एकता व अखंडता की रीढ़ कहा जाता है। यदि हिंदी नहीं होती तो भारत एक नहीं होता। अब हिंदी को राजभाषा से राष्ट्रभाषा बनने में देर नहीं लगेगी बशर्ते कि हम भारतीयों को अंग्रेजी के प्रति बढ़ रहे मोह व भ्रम को भंग करना होगा। उक्त बातें साहित्यकार डॉ. भूपेंद्र नारायण यादव मधेपुरी ने सोमवार को जिला मुख्यालय स्थित अपने निजी निवास वृंदावन में हिंदी दिवस के मौके पर आयोजित वर्चुअल संगोष्ठि को संबोधित करते हुए कही। डॉ. मधेपुरी ने बताया कि पिछले 70 साल से हिंदी दिवस कोशिकी क्षेत्र हिंदी साहित्य सम्मेलन के सभागार में धूमधाम से मनाया जाता था। लेकिन काेरोना के कारण कार्यक्रम का ऑनलाइन आयोजन करना पड़ा। उन्होंने कहा कि हिंदी दुनिया की सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा है लेकिन दुख इस बात का है कि भारत में केवल 77 प्रतिशत लोग बोलने में हिंदी का उपयोग करते हैं। उन्होंने कहा कि दुनिया में 65 करोड़ लोग हिंदी भाषी हैं। इस हाल में हमें संकल्प लेना चाहिए कि हिंदी का अधिकांश उपयोग कर इसे राष्ट्रभाषा बनाने में सहयोग करेंगे। कार्यक्रम में सैकड़ों हिंदी प्रेमियों ने भाग लिया।

हिंदी तकनीकी, साहित्य, सामाजिक संस्कृति की भाषा है : प्रो. ऊषा सिंहा
बीएन मंडल विश्वविद्यालय के स्नातकोत्तर हिंदी विभाग में सोमवार को हिंदी दिवस के अवसर पर विमर्श का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता विभागाध्यक्ष प्रो. ऊषा सिंहा ने की। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि हिंदी तकनीकी, बाजार, साहित्य और सामाजिक संस्कृति की भाषा है। राजनीति विज्ञान विभाग के अध्यक्ष प्रो. राजकुमार सिंह ने कहा कि हिंदी संवैधानिक मान्यता प्राप्त राजभाषा है, लेकिन आज भी सह राज भाषा के रूप में अंग्रेजी ही शासन-प्रशासन, शिक्षा और सेवा की भाषा है। हिंदी सर्वमान्य राष्ट्रीय भाषा होकर भी राष्ट्रभाषा नहीं है। इस पर हमें आपस में मिलकर विचार करना होगा। वहीं डॉ. सिद्धेश्वर कश्यप ने कहा कि हिंदी स्वाधीनता, अस्मिता, एकता, अखंडता और समन्वय की भाषा है। यह राष्ट्रीय भाषाओं में एक मात्र भाषा है जो राष्ट्र को जोड़ने की क्षमता से पूर्ण है। कार्यक्रम का संचालन एवं धन्यवाद ज्ञापन सोनम सिंह ने किया। विमर्श में समाजशास्त्र के विभागाध्यक्ष डॉ. मनोरंज प्रसाद, डॉ. अश्विनी कुमार झा व सुनील कुमार सहित अन्य भी मौजूद थे।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय की गति आपके पक्ष में हैं। आपकी मेहनत और आत्मविश्वास की वजह से सफलता आपके नजदीक रहेगी। सामाजिक दायरा भी बढ़ेगा तथा आपका उदारवादी रुख आपके लिए सम्मान दायक रहेगा। कोई बड़ा निवेश भी करने के लिए...

और पढ़ें