भैया दूज:गंगा नोतै य यम के, हम नोतै छी सहोदर भाय के...

मधेपुरा20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

गंगा नोतै य यम के, हम नोतै छी सहोदर भाय के। जेहना गंगा जी के अविरल धारा, ओहने हम भाय के हुए उम्र। जिलेभर में शनिवार को उल्लसपूर्वक भैया दूज का पर्व मनाया गया। इस दौरान जहां मैथिल ब्राह्मण परिवार में बहनों ने पीढ़ा पर भाई को बैठा कर मंत्रों को पढ़ते हुए नोता। जबकि अन्य परिवारों में बहनों ने गाय के गोबर से गोदन बनाया। ज्योति सिन्हा, सोनी सिन्हा, निधी, राशि, दिशा, प्रिति, कोमल, जूली, भाग्यश्री ने बताया कि भाई की लंबी उम्र के लिए उनलोगों ने यम को ओखल में को कूटा। फल के कांटा से यम को शापित किया। रुई से राखी बनाया। इस दौरान वहां भाई का प्रवेश वर्जित था। बाद में रूई की राखी को भाई के कमर और कलाई में बांधा। मधेपुरा में भैया-दूज का पर्व मनाती बहनें।

खबरें और भी हैं...