स्कॉलरशिप:पोस्ट मैट्रिक स्कॉलरशिप के लिए 31 दिसंबर तक छात्रों से लिया जाएगा ऑनलाइन आवेदन

मधेपुराएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सत्र 2021-22 के छात्र-छात्राएं कर सकते हैं ऑनलाइन आवेदन

पोस्ट मैट्रिक स्कॉलरशिप के लिए ऑनलाइन आवेदन की तिथि बढ़ा दी गई है। सत्र 2021-22 में अध्ययनरत छात्र-छात्राएं अब 31 दिसंबर तक आवेदन कर सकते हैं। यह आवेदन मैट्रिक पास अथवा उसके समकक्ष के छात्र-छात्राएं उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए करेंगे। इस योजना के तहत राज्य सरकार एवं केंद्र सरकार आवेदकों को राशि उपलब्ध कराएगी। पोस्ट मैट्रिक स्कॉलरशिप के लिए अध्ययनरत अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, पिछड़ा वर्ग एवं अति पिछड़ा वर्ग के छात्र-छात्राओं को इसका लाभ मिलेगा। वैसे छात्र जिनके माता-पिता की वार्षिक आय ढ़ाई लाख से ज्यादा नहीं है। उन्हें इस योजना का लाभ मिलेगा। आवेदन की तिथि बढ़ने से बीएनएमयू के छात्र-छात्राओं को काफी फायदा हुआ है। यहां स्नातक पार्ट वन में अभी नामांकन की प्रक्रिया चल रही है। नामांकन के उपरांत ही छात्र-छात्राएं छात्रवृत्ति के लिए आवेदन कर पाते हैं। इसके लिए छात्रों को कॉलेज से बोनाफाइड सर्टिफिकेट बनवाना पड़ता है।

पीएमएस पोर्टल पर लिया जा रहा है आवेदन
इस योजना के तहत विधिवत मान्यता प्राप्त महाविद्यालय विश्वविद्यालय संस्थान में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं को छात्रवृत्ति की स्वीकृति दी जाएगी। पोस्ट मैट्रिक स्कॉलरशिप के लिए आवेदन की तिथि बढ़ाए जाने से हजारों छात्रों को फायदा होगा पोस्ट मैट्रिक स्कॉलरशिप के पोर्टल पर इसकी सूचना भी अपलोड कर दी गई है। पोस्ट मैट्रिक स्कॉलरशिप के लिए राज्य सरकार द्वारा पीएमएस पोर्टल विकसित किया गया है। पोर्टल में पंजीकरण से लेकर छात्रवृत्ति के अनुमोदन एवं भुगतान की प्रक्रिया पूर्ण रूप से ऑनलाइन की गई है। छात्र-छात्राओं को डीबीटी के माध्यम से स्वीकृत छात्र की छात्रवृत्ति की राशि सीधे उनके खाते में भेजी जाएगी।

संस्थान के द्वारा आवेदन का किया जा रहा सत्यापन
आवेदकों के द्वारा पोर्टल पर ऑनलाइन किए गए आवेदन की सूचना पोर्टल के माध्यम से संबंधित संस्थान के नोडल पदाधिकारी के लॉगइन पर प्राप्त होगा। संस्थान के नोडल पदाधिकारी का यह दायित्व होगा कि निर्धारित तिथि के अंदर उनके संस्थान से संबंधित सभी पंजीकृत आवेदन का सत्यापन कर लें। आवेदन में त्रुटि रहने पर इससे संबंधित सूचना समय से आवेदकों को दी जा सके। सत्यापन होने के बाद ही आगे की प्रक्रिया पूरी की जाएगी। इस योजना से आर्थिक रूप से कमजोर मेधावी छात्र-छात्रों को काफी लाभ मिलेगा।

खबरें और भी हैं...