जनता का फैसला:सिंहार से पूनम व कुंजौरी से तनूजा बनीं दोबारा मुखिया, खापुर से 25 साल के राहुल को जीत

मधेपुराएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 11वें चरण में मंगलवार को आलमनगर के पंचायतों के मतों की हुई गिनती
  • त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव: जिला परिषद के लिए रेखा कुमारी ने रेखा देवी को हराया

11वें चरण में संपन्न हुए चुनाव के बाद आलमनगर प्रखंड के 11 पंचायतों के मतों की गिनती मंगलवार को जिला मुख्यालय के टीपी कॉलेज में की गई। इस दौरान देर शाम तक आए सभी 11 पंचायतों के परिणाम में दो पंचायत में निवर्तमान मुखिया के सिर पर जीत का सेहरा बंधा। इनमें सिंहार से पूनम देवी ने रानी कुमारी को पराजित किया। पूनम को 1812 और रानी को 1618 वोट मिले। जबकि कुंजौरी पंचायत से तनूजा शर्मा ने रीना देवी को रहाया। तनुजा को 2403 अौर रीना को 2026 वोट मिले। जबकि अन्य नौ पंचायतों में नए प्रत्याशियों पर लोगों ने भरोसा जताया। चौंकाने वाला परिणाम खापुर रतवारा से आया। जहां 25 साल के राहुल कुमार ने मुकेश कुमार को पराजित किया। दूसरी ओर, जिला परिषद क्षेत्र संख्या-20 के लिए रेखा कुमारी ने निवर्तमान जिला परिषद सदस्य रेखा देवी को पराजित किया। रेखा कुमारी को 9320 और रेखा देवी को 7767 वोट आए। हालांकि रेखा देवी के पुत्र राजेश कुमार रौशन इटहरी पंचायत से मुखिया चुने गए। राजेश को 1562 और निवर्तमान मुखिया सतीश कुमार को 1342 वोट आए। चौंकाने वाली बात यह रही कि इटहरी पंचायत में राजेश की मां रेखा देवी को जिला परिषद के लिए 68 वोट कम आए। जबकि जिला परिषद क्षेत्र संख्या-19 के लिए जदयू नेता चंद्रशेखर सिंह की पत्नी आरती देवी ने आशा कुमारी को पराजित किया। आरती देवी को 7803 और आभा कुमारी को 6176 वोट मिले। अंतिम चरण के मतों की गिनती को लेकर टीपी कॉलेज स्थित मतगणना केंद्र में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई थी। बताया कि मुखिया पद के लिए इस बार निर्वाचित कई नए प्रत्याशी इससे और उनके परिजन पूर्व में मुखिया रह चुके हैं।

गोलीकांड के बाद भी ललिता बनीं मुखिया
मतदान से एक दिन पूर्व जिस बड़गांव पंचायत में गोलीबारी में वार्ड सदस्य प्रत्याशी की मौत हो गई थी और इस मामले में ललिता देवी को परिजनों और समर्थकों को आरोपी किया गया था, वहां से ललिता देवी को ही मुखिया पद से जीत मिली। ललिता देवी को 2162 और निवर्तमान मुखिया शांति देवी को 1683 वोट मिले। जबकि खुरहान पंचायत में मुखिया कंचन देवी के असामयिक निधन के बाद इस बार भी उनके ही परिवार की सदस्य मुखिया चुनीं गई। कंचन देवी की गोतनी मंजू देवी ने एकतरफा मुकाबले में डेजी देवी को पराजित किया। मंजू को 2567 और डेजी काे मात्र 840 वोट आए।

रमेश, पूनम, मधुमाला, सुनिता, कविता बनीं मुखिया
भागीपुर नरथुआ पंचायत से मुखिया पद के लिए रमेश कुमार रमण ने संजय कुमार को पराजित किया। रमेश को 1116 और संजय को 1077 वोट आए। किशपुर रतवारा पंचायत से पूनम कुमारी ने चंदा देवी को पराजित किया। पूनम को 1861 और चंदा को 1786 वोट मिले। गंगापुर से मधुमाला देवी ने अर्चना कुमारी को हराया। मधुमाला को 2501 और अर्चना को 1986 वोट मिले। इसी तरह से बसनवाड़ा पंचायत से सुनीता देवी ने अंजनी सिंह को हराया। सुनीता को 2211 और अंजनी को 1563 वोट आए। बिसपट्‌टी पंचायत से कविता देवी ने मो. असगर को हराया। कविता को 1909 और मो. असगर को 1860 वोट मिले।

नंदलाल, समीना, जया, पंकज, रीना बनीं पंसस
दूसरी ओर, पंचायत समिति पद के लिए भी मतगणना में कहीं कांटे की टक्कर दिखी तो थोड़ा जयादा का अंतर देखा गया। बिसपट्‌टी पंचायत के क्षेत्र संख्या-1 से नंदलाल पासवान ने इंद्रजीत पासवान को हराया। नंदलाल को 867 और इंद्रजीत को 726 वोट मिले। जबकि इसी पंचायत के क्षेत्र संख्या-2 से समीना बीबी ने रोमा सिंह को पराजित किया। समीमा को 981 और रोमा को 946 वोट मिले। बसनवाड़ा क्षेत्र संख्या-5 से जया देवी ने सरिता देवी को हराया। जया को 1779 और सरिता को 1169 वोट मिले। खुरहान क्षेत्र संख्या-4 से पंकज सिंह ने प्रवीण सिंह को हराया। पंकज को 788 और प्रवीण को 471 वोट मिले। बड़गांव क्षेत्र संख्या-6 से रीना राय ने राजकिशोर साह को हराया। रीना को 776 और राजकिशोर को 647 वोट मिले। क्षेत्र संख्या-3 सिंहार पंचायत से पंचायत समिति सदस्य पद के लिए सबीला खातून ने बीबी मजरुम को हराया। सबीला को 1519 और बीबी मजरूम को 1208 वोट मिले।

खबरें और भी हैं...