सख्ती / यूरिया का चमकदार दाना है असली की पहचान

X

  • नकली खाद विक्रेताओं की जानकारी दें किसान, ताकि हो सके कार्रवाई : राजन बालन

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:57 AM IST

मधेपुरा. खेतों में गेहूं की फसल कटने के साथ ही किसान खरीफ की तैयारी में जुट गए हैं।  बेहतर उपज के लिए किसानों को खाद की जरूरत होगी। बाजार में नकली उर्वरक भी काफी मात्रा में विभिन्न प्रोड्क्टस के रूप मेंं मौजूद है। जिसके कारण किसान यह तय नहीं कर पाते हैं कि जो उर्वरक वे खरीद रहे हैं वह असली है अथवा नकली। किसानों को जागरूक करते हुए जिला कृषि पदाधिकारी राजन बालन ने बताया कि छोटे-छोटे घरेलू उपायों के माध्यम से असली तथा नकली उर्वरक की पहचान की जा सकती है। उन्होंने कहा कि सुपर फास्फेट के सख्त दाने ही इसकी सबसे बड़ी पहचान है। 
यह भूरा काला और बादामी का मिश्रित रंग होता है। गर्म तवा पर इसके दानों को रखने पर यदि दाने नहीं फूले तो समझ ले कि यह असली है। इसके दानों को नाखून से खुरचना संभव नहीं होता। इसमें आमतौर पर डीएपी और एनपी को मिक्स कर नकली सुपर नकली सुपर फास्फेट तैयार किया जाता है। वहीं यूरिया के चमकदार दाने की इसके असली होने की पहचान है। पानी में डालते ही यह पूरी तरह से घुल जाता है तथा घोल को छूने पर पूरी तरह शीतलता महसूस होती है। तवा पर गर्म करते ही असली यूरिया का दाना पूरी तरह पिघल जाता है तथा आंच तेज करने पर कोई अवशेष न बचे तो समझ लेेना चाहिए कि यूरिया असली है। वहीं पोटाश का नमक तथा लाल मिर्च जैसा रंग होता है। इसके कुछ दानों को पानी से नम करने के बाद यदि दाने आपस में चिपकते हुए नहीं दिखाई दें तो समझ लेना चाहिए कि यह असली है।  बालन ने किसानों को दिए गए घरेलू टिप्स में बताया कि किसान बाजार में बिक रही खाद काे आजमा कर ही अपने खेतों में डालें। अगर कहीं से नकली खाद मिलने की सूचना मिले तो इसकी जानकारी उन्हें दें ताकि खाद विक्रेताओं के खिलाफ कार्रवाई की जा सके।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना