विरोध:कैंडल मार्च निकालकर लखीमपुर खीरी में जान गंवाने वाले किसानों को दी श्रद्धांजलि

मधेपुरा12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कॉलेज चौक पर कैंडल जलाकर मृत किसानों को श्रद्धांजलि अर्पित करते एनएसयूआई कार्यकर्ता। - Dainik Bhaskar
कॉलेज चौक पर कैंडल जलाकर मृत किसानों को श्रद्धांजलि अर्पित करते एनएसयूआई कार्यकर्ता।
  • एनएसयूआई कार्यकर्ताओं ने लखीमपुर घटना को लेकर जताया विरोध, सरकार के खिलाफ नारे लगाए

उत्तरप्रदेश के लखीमपुर खीरी में हुई घटना में जान गंवाने वाले किसानों को एनएसयूआई कार्यकर्ताओं ने जिलाध्यक्ष निशांत यादव के नेतृत्व में कैंडल मार्च निकालकर श्रद्धांजलि दी। मौके पर जिलाध्यक्ष निशांत यादव ने कहा कि काला कृषि कानून के खिलाफ इस आंदोलन में सरकारी जुल्मों ने सैकड़ों किसानों की हत्या की है। सरकार लगातार आंदोलन को कमजोर करने की षड्यंत्र रचती आ रही है, लेकिन जब मोदी सरकार अपने मंसूबे में कामयाब नहीं हुई तो अब कायराना हरकत कर किसानों की हत्या की जा रही है। बीते दिनों यूपी के लखीमपुर खिरी में किसान शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे थे। जिसे यूपी के गृहराज्य मंत्री के पुत्र द्वारा अपनी गाड़ी से कुचल दिया गया। इस घटना में 6 किसानों की मौत हो गई है। इसका हिसाब मोदी सरकार को देना होगा। निशांत ने कहा कि किसान आंदोलन अब केवल किसानों तक नहीं रहा गया है। यह देश के गरीब, मजदूर, नौजवान और छात्रों के भविष्य को बचाने की लड़ाई है। यह देश बचाने की लड़ाई है। उन्होंने कहा कि हम लड़ेंगे और आखिरी दम तक लड़ेंगे। एनएसयूआई विवि अध्यक्ष नीतीश यादव और हिमांशु राज ने कहा कि सरकार किसानों के हत्यारों को गिरफ्तार कर कठोर कार्रवाई करें, अन्यथा आंदोलन जारी रहेगा। कैंडिल मार्च में साजन यादव, शिवम कुमार, जितेंद्र कुमार, अरमान अली, अंशु पासवान, पुरुषोत्तम कुमार, चितरंजन, प्रशांत प्रिंश, विशाल भाटिया, सतीश, गौतम, अभिषेक, रवि, राहुल, दिवाकर, रामविलाश, दीनबंधु, मौशम झा, मुन्ना राजा, रौशन, चंद्रप्रकाश, अजय, नीतीश, मिथलेश, अफरोज, अमित समेत दर्जनों छात्र मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...