तीसरी लहर की दस्तक:38 नए पॉजिटिव मिले, एक्टिव मरीजों की संख्या 100 के पार, राजगनर में सबसे अधिक संक्रमित

मधुबनी13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
शहर के गंगा सागर चौक स्थित बाजार में लगी लोगों की भीड़। - Dainik Bhaskar
शहर के गंगा सागर चौक स्थित बाजार में लगी लोगों की भीड़।
  • सीएस ने सभी पीएचसी प्रभारियों को किया अलर्ट, लोगों से सतर्क रहने की अपील की

जिले में एक्टिव संक्रमितों की संख्या 100 के पार पहुंच गई है। लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमित के मामले को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने सभी पीएचसी प्रभारी को अलर्ट कर दिया है व जीएनएम व चिकित्सक की प्रतिनियुक्ति रामपट्‌टी कोविड केयर सेंटरों में की जा रही है। शुक्रवार को सर्वाधिक पॉजिटिव मरीज मधेपुर प्रखंड में मिले जहां 14 संक्रमित पाए गए हैैं। वहीं, सदर अस्पताल के फ्लू कॉर्नर में 04, बिस्फी में 02, रेलवे स्टेशन पर 02, राजनगर में 08 व बेनीपट्‌टी में 08 नए संक्रमित पाए गए हैं जिसमें पांच पुलिसकर्मी व तीन अन्य लोग हैं।

राजनगर के पीएचसी के 06 स्वास्थ्यकर्मी व 01 पुजारी पॉजिटिव पाए गए हैं व एक अन्य शामिल हैं। राजनगर पीएचसी में स्वास्थ्यकर्मियों के पॉजिटिव होने के साथ ही शुक्रवार से प्रसव की सुविधा यहां बंद कर दी गई है। लैब टेक्नीशियन गुलाब ने बताया कि राजनगर पीएचसी में स्वास्थ्यकर्मियों के पॉजिटिव होने के बाद यह निर्णय लिया गया है। शुक्रवार कि सुबह जहां संक्रमितों की संख्या 81 थी जाे बढ़कर 119 हो गई है। ऐसे में विभाग पूरी तरह से अलर्ट हो गया है। शुक्रवार को 38 कोरोना संक्रमितों की पहचान की गई। मालूम हो कि चार जनवरी को इस साल जिले में पहला कोरोना संक्रमित पाया गया था जिसके बाद तीन दिनों में ही यह आंकड़ा 100 के पार पहुंच गया है। फिर भी सदर अस्पताल, बाजार, दुकान व सब्जी बाजार में लोग कोविड-19 संबंधी गाइडलाइन की धज्जियां उड़ाते हुए दिखाई दे रहे हैं।

सीएस बोले : प्रोटोकॉल का पालन करना बेहद जरूरी है

सिविल सर्जन डाॅ. सुनील कुमार झा ने कहा कि कोरोना को मात देने के लिए सबसे आवश्यक है कोविड- 19 प्राटोकाल का पालन करना व वैक्सीन लेना। अभी भी कई लोग बिना मास्क भीड़भाड़ वाली जगहों पर घूम रहे हैं जो कि गलत है। साथ ही वैसे व्यक्ति जिन्होंने अब तक टीका नहीं लिया है, उनके लिए आवश्यक है कि जल्द से जल्द दोनों डोज लें।

सही तरीके से मास्क पहन कोरोना को दे सकेंगे मात

एसीएमओ डाॅ. आर के सिंह ने कहा कि कोरोना के लिए अभी फिलहाल कोई एंटीडोट या दवा नहीं है लेकिन कुछ शुरुआती सावधानियां हैं जिससे कोरोना से बचा जा सकता है। इन्हीं सावधानियों में मास्क सबसे महत्वपूर्ण है। उचित तरीके से मास्क पहनने से खांसी, छींकने या यहां तक ​​कि बोलते समय खांसी की बूंदों को रोकने में मदद मिलता है।

वेंटिलेटर जिला दवा भंडार की शोभा बना

इधर, कोविड मरीजों की संख्या में लगातार हो रहे इजाफे को देखते हुए कोविड केयर अस्पताल को बेहतर बनाया जा रहा है। यहां 66 संक्रमित शुक्रवार तक भर्ती थे। लेकिन तीसरी लहर शुरू होने के बावजूद कोविड केयर सेंटर रामपट्टी में वेंटिलेटर नहीं लगाई जा सकी है। यहां लगने वाली वेंटिलेटर जिला दवा भंडार में शोभा की वस्तु बनकर रह गई है। सीएस डाॅ. एसके झा ने बताया कि एचआर की कमी की वजह से वेंटिलेटर का संचालन शुरू नहीं हो सका है। इधर, जिले में प्रतिदिन 6 हजार से अधिक लोगों की कोविड-19 जांच की जा रही है। शुक्रवार को भी खबर लिखे जाने तक 5980 लोगों की जांच की गई थी। वहीं, अब तक जिले में 20 लाख से अधिक लोगों की जांच की जा चुकी है। आरटीपीसीआर व एंटीजन किट से जांच हाे रही है।

खबरें और भी हैं...