धमाके की लपटें घटीं तो दो लाशें, कराहता बच्चा दिखा:मधुबनी में सिलेंडर ब्लास्ट; 5 साल की बेटी के साथ मां की मौत, 8 साल का बेटा पटना पहुंचकर भी नहीं बचा

मधुबनी2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
हादसे के बाद मृतक के घर के बाहर उमड़ी ग्रामीणों की भीड़। - Dainik Bhaskar
हादसे के बाद मृतक के घर के बाहर उमड़ी ग्रामीणों की भीड़।
  • ​​​​​जयनगर शहर के पास बस्ती पंचायत के वार्ड-12 में हादसा
  • मुंबई में जिस परिवार के लिए कमा रहे मुकेश, वही खत्म

मधुबनी के जयनगर में गैस सिलेंडर के फटने से 3 लोग जलकर राख हो गए। खाना बनाने के दौरान हुए हादसे में मां-बेटी की सुबह में ही मौत हो गई थी। गंभीर रूप से घायल बेटे मयंक (8 साल) की भी PMCH में मौत हो गई है। उसने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। हादसे में घायल पड़ोसी महिला की हालत अब ठीक है। मृतक की पहचान सोनी देवी (35 वर्ष) और उसकी पुत्री माही कुमारी ( 5 वर्ष) के रूप में की गई है। हादसे से बस्ती पंचायत में अफरातफरी मच गई। मृतक के घर में मातम छा गया है।

ब्लास्ट के बाद घर का नजारा।
ब्लास्ट के बाद घर का नजारा।

सिलेंडर ब्लास्ट से दहल उठा वार्ड 12

सुबह में 6:15 बजे जयनगर शहर से सटी बस्ती पंचायत के वार्ड 12 में रेलवे ट्रैक के सामने एक मकान में जोरदार धमाका हुआ। 1 किमी तक के लोग भीषण धमाके से दहल उठे। कुछ लोग आवाज सुनकर दौड़े। धमाका इतना तेज था कि कुछ पल के लिए लोगों की सांसें थम गई। जब लोग घटनास्थल के पास पहुंचे तो घर से धू-धूकर आग की लपटें उठ रही थीं। धुएं के गुबार से पता नहीं चल पा रहा था कि आखिर घर के अंदर हुआ क्या है। इसी बीच पड़ोसियों ने मयंक को देखा। आग की लपटें उसे अपने आगोश में ले चुकी थीं। किसी तरह उसे आग से निकालकर इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया।

मां-बेटी झुलसकर हो चुकी थी राख

आननफानन में लोगों ने आग को काबू में पाने के लिए पुलिस, अग्निशमन सहित अन्य प्रशासनिक अधिकारियों को सूचना दी। फायर ब्रिगेड से आग बुझाने के बाद प्रशासनिक अधिकारी और ग्रामीण घर के अंदर घुसे तो चीख-चित्कार मच गई। सोनी देवी (35 साल) और उसकी पुत्री माही (5 साल) आग में झुलसकर राख हो गई थी। शव के रूप में मांस का लोथड़ा बचा हुआ था। पुलिस ने कपड़े में मांस के लोथड़े को बांधकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया।

आस-पास के लोगों ने देखा था

ग्रामीणों ने बताया कि मुकेश झा के घर से धुंआ और आग की लपटें आसपास के लोगों ने देखी थी। ब्लास्ट के बाद दूसरे कमरे में रह रही सोनी की जेठानी लड्डू देवी दरवाजा खोलकर चिल्लाने लगी। रेल ट्रैक के दूसरे ओर के लोग घटनास्थल पर पहुंच गए। दरवाजे को तोड़कर आग के लपेटे में पड़े मयंक (8 साल) को किसी तरह बाहर निकाल लिया।

मुंबई में रहते हैं मृतक के पति

मृतक सोनी के पति मुकेश झा कई वर्षों से मुंबई में काम करते हैं। मुकेश और उनके तीनों भाई मुंबई में रहकर काम करते हैं। बड़े भाई शंकर झा की पत्नी लड्डू झा सोनी के साथ घर पर रहती है। आग लगने का कारण स्पष्ट नहीं हो पाया है। थाना प्रभारी संजय कुमार ने बताया कि हादसे में गंभीर रूप से घायल मयंक झा की भी मौत हो गई। सिलेंडर ब्लास्ट के कारणों का पता लगाया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...