बाल कल्याण समिति का एक्‍शन:बाल मजदूरी कर रहे बच्चाें काे मुक्त कराया

मधुबनीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
परिजनों के साथ छुड़ाए गए बच्चे। - Dainik Bhaskar
परिजनों के साथ छुड़ाए गए बच्चे।

बाल कल्याण समिति ने मधुबनी से पूर्णिया में जाकर बाल मजदूरी कर रहे बच्चाें काे मुक्त कराकर उसके परिजनाें की पहचान की और बच्चाें काे परिजनाें काे साैंप दिया। इस संबंध में जानकारी देते हुए बाल कल्याण समिति के सदस्य मंटू कुमार ने बताया कि आठ से लेकर 12 साल के बच्चे रोटी के लिए दूसरे जिले या प्रदेश में कई महीनों से हाथ जला रहे थे। मखाना उद्याेग और जलेबी की दुकान में पानी की बाल्टी पहुंचाने से लेकर बर्तन मांजने तक का काम लिया जा रहा था।

इस संबंध में जानकारी हाेते ही बाल कल्याण समिति, पूर्णिया ने मां-बाप की तलाश पूरी होने तक इन बच्चों को बाल गृह, पूर्णिया में ही रखने का आदेश दिया था। पूर्णिया बाल कल्याण समिति और मधुबनी बाल कल्याण समिति के संयुक्त प्रयास से इन बच्चों को बंधुआ जीवन से मुक्ति दिलाने की पहल की गई है। करीब 2 महीने तक पूर्णिया के चाइल्ड केयर होम में रखने के बाद इन्हें मां-बाप तक पहुंचाने के लिए मधुबनी भेजा गया।

वहीं, बाल कल्याण समिति के न्यायपीठ के सदस्य मन्टू कुमार ने जानकारी देते हुए बताया कि छोटे बच्चों का भविष्य संवारने के लिए उनकी पढ़ाई-लिखाई अति आवश्यक है ताकि छोटे बच्चों को उनके साथ हो रहे अच्छे-बुरे कार्यों की जानकारी हो सके। बाल कल्याण समिति, मधुबनी के अध्यक्ष बिंदु भूषण ठाकुर, सदस्य मंटू कुमार, राम भूषण पांडे, आलिया खुर्शीद ने कागजी प्रक्रिया के बाद बच्चाें काे परिजनाें को सौंप दिया।

खबरें और भी हैं...