पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लापरवाही:मजदूरों के हड़ताल पर जाने से ठप है सफाई का काम

मधुबनीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कचरे का उठाव नहीं होने के कारण गिलेशन बाजार में फैली गंदगी। - Dainik Bhaskar
कचरे का उठाव नहीं होने के कारण गिलेशन बाजार में फैली गंदगी।
  • निविदा नहीं होने के कारण बार-बार उत्पन्न हो रही समस्या, लोगों की परेशानी कम नहीं हो रही

निगम क्षेत्र के सफाई मजदूरों के हड़ताल पर जाने के कारण शहर का सफाई कार्य तीन दिनों से पूरी तरह से ठप है। कोविड-19 के दौर में भी निगम कर्मियों की लापरवाही का दंश शहर के लोग झेलने को तैयार है। वहीं मजदूरों के हड़ताल पर जाने का कोई स्पष्ट कारण भी निकल कर सामने नहीं आ रहा है। पूर्व में इसका कारण मजदूरी भुगतान में हो रही देरी को बताया जा रहा था। पर कई मजदूरों ने बात करने पर बताया कि उन लोगों का केवल 15 दिन की मजदूरी बकाया है। अन्य मजदूरों ने काम करना बंद कर दिया तो उनलोगों ने भी कार्य करना बंद कर दिया। वहीं तीन दिनों से सफाई कार्य नहीं होने के कारण शहर के मुख्य चौक-चौराहा सहित बाजार में भी कचरे का ढेर लगा हुआ है।

साफ-सफाई की लचर व्यवस्था देखकर एसडीओ ने लगाई थी फटकार

दोपहर में बाजार पूरी तरह से बंद था। कई स्थानों पर बारिश होने के कारण नाले की बजबजाती गंदगी सड़क पर फैल रही थी। कुछ दिन पूर्व सदर एसडीओ की ओर से गिलेशन बाजार का निरीक्षण भी किया था जिस दौरान बाजार में गंदगी देखकर नप कर्मी को जमकर फटकार लगाई गई थी।

डोर टू डोर कचरे का नहीं हो रहा उठाव

मुख्य सफाई के अलावे डोर-टू-डोर कचरे का उठाव भी बंद कर दिया गया है। इस कारण से घरेलू कचरे का भी उठाव नहीं हो रहा है। वहीं मोहल्ले व कॉलोनियों में लगाए गए डस्टबिन भी पूरी तरह से घरेलू कचरे से भर गए हैं। अब इसमें भी फेंका जाने वाला कचरा डस्टबीन से बाहर गिरने के कारण सड़क पर गंदगी फैला रहा है। वहीं, इस मामले में नप के सिटी मैनेजर नीरज कुमार झा ने बताया कि संभवतः मजदूरी भुगतान के कारण ही कार्य रोका गया है। वहीं, दूसरी तरफ अनुभवहीन कर्मियों को सफाई कार्य की जिम्मेदारी दिए जाने के कारण भी मजदूरों में असंतोष है।

खबरें और भी हैं...