पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

भ्रष्टाचार उजागर:टेस्टिंग के दौरान पानी भरते ही टंकी धराशायी हुई, बाल-बाल बचे मजदूर

मधुबनी21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
परसा दक्षिणी के वार्ड नं-3 में पानी भरने के बाद ध्वस्त टावर। - Dainik Bhaskar
परसा दक्षिणी के वार्ड नं-3 में पानी भरने के बाद ध्वस्त टावर।
  • निर्माण कार्य के दौरान गुणवत्ता का नहीं किया गया पालन

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के ड्रीम प्रोजेक्ट हर घर नल का जल योजना में लूट खसोट किस कदर हावी है, इसका जीता जागता उदाहरण प्रखंड के परसा दक्षिणी पंचायत में देखा जा सकता है। यहां वार्ड नं-3 में बनी जलमीनार पहली ही टेस्टिंग में धराशायी हो गई। वार्ड नम्बर तीन में नल जल योजना के पानी टंकी को रखने के लिए लोहे का टावर बनाया गया है जिसके ऊपर पांच हजार लीटर की दो पानी की टंकी लगाई गई। शनिवार को टेस्टिंग के लिए पानी भरा जा रहा था, पानी पूरी तरह से भड़ा भी नहीं था कि टंकी धराशायी होकर नीचे गिर गई। जिस समय टंकी नीचे गिरी उस वक्त वहां काम करने वाले मजदूर खाना खाने के लिए गए हुए थे। इसलिए किसी तरह की जानमाल को कोई क्षति नहीं हुई।  अन्यथा मजदूरों की जान भी जा सकती थी। ग्रामीणों ने बताया कि जिस वक्त टंकी में पानी भड़ी जा रही थी कोई भी टंकी के आसपास नहीं था। अन्यथा टंकी की चपेट में आने से बड़ी घटना घट सकती थी। मुखिया मनोज कुमार ने पानी टंकी धरासाई होकर गिरने की पुष्टि करते हुए बताया कि अभी ठेकेदार को पेमेंट नहीं किया गया है। ठेकेदार से दोबारा टंकी का निर्माण कराया जाएगा। वहीं वार्ड सदस्य के पति भूषण कुमार ने बताया कि टंकी रखने के लिए बनाए गए टावर के ऊपरी छत की वेल्डिंग कमजोर रहने के कारण घटना हुई है जिसकी दोबारा मरम्मत कराई जा रही है।

बीडीओ ने कहा- मामले में की जाएगी कार्रवाई
नल जल योजना का काम मुखिया करवा रहे हैं। मुखिया टावर दोबारा बनवा देंगे। लेकिन सवाल यह उठता है कि आखिर इतनी कमजोर टवर बनाया ही क्यों जो पानी भड़ते ही धरासाई होकर गिर गया। प्रत्येक वार्ड में नल जल योजना में सरकार पंचायतों के माध्यम से 17 से 20 लाख रुपए तक खर्च कर रहा है। इसके बावजूद योजना सफल नही हो पा रही है। प्रखंड के विभिन्न पंचायतों में करोड़ों रुपए खर्च होने के साथ शुद्ध पेयजल आज भी आम लोगों के लिए सपना ही है। बताया जा रहा है कि योजना का सफल नही होना मुखिया और वार्ड सदस्य के द्वारा योजना में की जा रही बंदरबांट का नतीजा है। जिसकी जांच होनी चाहिए। वही प्रखंड विकास पदाधिकारी सम्राट जीत ने कहा मामला संज्ञान में आई है, आवश्यक कार्रवाई की जा रही है।

खबरें और भी हैं...