पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

कोरोना का असर:हर वर्ष रक्षाबंधन पर डाकघर में आ जाती थी एक हजार से अधिक राखी, इस बार कोरोना और बाढ़ के कारण मात्र 300 ही आई

मधुबनी12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • बहन-भाई के प्यार को लगा कोरोना का ग्रहण: दरभंगा-समस्तीपुर रेलखंड पर बाढ़ का पानी आने के कारण ट्रेनें बंद हैं

कोरोना से रक्षा के लिए इस बार रक्षा सूत्र पर भी बंधन लग गया है। बहने विदेश में रह रहे भाइयों के लिए राखी नहीं भेज पाई है। और न ही इस बार विदेश से राखी एवं गिफ्ट डाक के माध्यम से यहां पहुंच पाया है। अदृश्य कोरोना के दृश्य को देखते हुए भाई बहन कोई ऐसा कदम नही उठाना चाहते है जिससे एक दूसरे को नुकसान हो। बाजार के अधिकतर हिस्सा कंटेनमेंट जोन में तब्दील है। रक्षा बंधन को लेकर बाजार में न ही रौनक है और न ही उत्साह। पहले एक सप्ताह पूर्व से ही रक्षाबंधन को लेकर बाजार में चहल पहल एवं रौनक होती थी।

विभिन्न प्रकार की राखियां से बाजार पटी होती थी। इस बार कोरोना को युद्ध मे परास्त करने के लिये सभी लॉक डाउन में है। कोविड 19 वायरस को लेकर इस बार विदेश से डाक के माध्यम से राखी यहां नही आयी है। और न ही जयनगर बॉर्डर के बहने विदेश में रह रहे भाइयों के लिये राखी भेजी है। पूर्व में सात समंदर पार अमेरिका, इंग्लैंड एवं भूटान, म्यांमार, मालदीप, श्री लंका, नेपाल समेत अन्य देशों में बहने अपने भाइयों के लिए राखी भेजती थी। और इन देशों से भी राखियां एवं गिफ्ट बहने अपने भाई के लिये भेजती थी।

पहली बार ऐसा हुआ है की इस पर ब्रेक लग गई है। डाक के माध्यम से देश के विभिन्न महानगरों से विगत 15 दिनों में मात्र 300 राखियां आयी है। जबकि पूर्व में 1000 से अधिक राखियां आती थी। यानी इस मामले में कोरोना को लेकर करीब 70 फीसदी की गिरावट हुई है। और करीब तीन सौ से चार सौ राखियां यहां से देश के विभिन्‍न महानगरों के लिए डाक के माध्यम से भेजी गई है। डाक घर के डाक बाबू ललन कुमार ने बताया की मुजफ्फरपुर व दरभंगा आरएमएस कार्यालय के कर्मी कोरोना पॉजिटिव पाये जाने एवं दरभंगा समस्तीपुर रेलखंड पर बाढ़ के पानी आ जाने से भी डाक प्रभावित हुआ है।

बहुत से राखियां आ नही पाया तो कई राखियां दरभंगा से आगे जा नही पाये है। कोविड को लेकर बहने ऑनलाइन साइट से राखियां अपने भाइयों को भेज रही है। ताकि भाई अदृश्य वायरस से सुरक्षित रहे। इतना ही सावधानी भाई भी अपने बहन के लिए बरत रहे है।

11 घंटे 49 मिनट तक रक्षा बंधन का शुभ मुहूर्त
इसबार रक्षा बंधन पर सावन के आखरी सोमवार पर सावन पूर्णिमा एवं श्रवण नक्षत्र का महासंयोग बन रहा है। जो बहुत ही उत्तम है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार तीन अगस्त सोमवार को सुबह 8:30 बजे तक भद्रा काल रहेगा। इसलिए सुबह 8:31 से रात 8:20 बजे तक रक्षा सूत्र बांधने का शुभ मुहूर्त है।

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- मेष राशि के लिए ग्रह गोचर बेहतरीन परिस्थितियां तैयार कर रहा है। आप अपने अंदर अद्भुत ऊर्जा व आत्मविश्वास महसूस करेंगे। तथा आपकी कार्य क्षमता में भी इजाफा होगा। युवा वर्ग को भी कोई मन मुताबिक क...

और पढ़ें