कोरोना का कहर:बुजुर्गों में कोविड संक्रमण की आशंका अधिक, मौत में वृद्धों की संख्या ज्यादा

मधुबनी6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • गंभीर रोगों से ग्रसित उम्रदराज लोगों काे विशेष ख्याल रखने की जरूरत

कोविड 19 की दूसरी लहर में विशेषकर कोविड संक्रमण का सबसे अधिक जोखिम उम्रदराज लोगों को होता है। इसे देखते हुए उनकी सुरक्षा जरूरी है। उक्त बातें सदर अस्पताल के प्रभारी अधीक्षक डाॅ. डीएस मिश्र ने कही। डाॅ. मिश्र ने बताया कि इसको लेकर स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय तथा एम्स दिल्ली के जियाट्रिक मेडिसिन विभाग द्वारा एडवाइजरी जारी की गयी है। जारी एडवाइजरी में बताया गया है कि उम्रदराज लोगों में कोविड 19 संक्रमण का जोखिम अधिक है।

साथ ही कोरोना संक्रमण के मद्देनजर वरिष्ठ नागरिकों व उनके देखभाल में लगे लोगों को इस दौरान क्या करना चाहिए एवं क्या नहीं करना चाहिए, इसके विषय में भी आवश्यक रूप से जानकारी दी गयी है। एडवाइजरी में कहा गया है कि 60 साल या इससे अधिक उम्र के बुजुर्ग लोग कोविड संक्रमण के जोखिम का सामना सबसे अधिक कर रहे हैं। उम्रदराज लोग जिन्हें अस्थमा, गंभीर श्वसन रोग, ब्रोंकाइटिस, फेफड़ों से जुड़े रोग जैसे टीबी, दिल की बीमारी, किडनी व लीवर की समस्या जैसे हेपेटाइटिस, तथा पार्किंसन, मधुमेह, हाइपरटेंशन व कैंसर आदि से जूझ रहे हों, उन्हें विशेष तौर पर खुद को सुरक्षित रखने के लिए कहा गया है।

इन बातों के पालन करने को लेकर खास सलाह

बुजुर्ग लोगों से कहा गया है कि वह अपना अधिकांश समय घरों में ही बितायें। बाहर से मिलने के लिए आने वाले मेहमानों या अन्य किसी से सीधे संपर्क में आकर मिलने से पूरी तरह परहेज करें। यदि मिलना जरूरी है तो एक मीटर के दूरी पर रहकर मुलाकात करें। बुजुर्गों से कहा गया है कि यदि वह घर में अकेले रह रहें हों तो अपने पड़ोसिंयों को इस बात की जानकारी जरूर दें ताकि समय समय पर आवश्यक वस्तुएं उनके द्वारा उपलब्ध करायी जा सके।

खबरें और भी हैं...