पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ईद-उल-अजहा:ईद-उल-अजहा पर ईदगाह और मस्जिदाें काे विशेष रूप से सजाया गया था

मधुबनी14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
नमाज़ अदा करने के बाद छोटे बच्चे। - Dainik Bhaskar
नमाज़ अदा करने के बाद छोटे बच्चे।

प्रखंड क्षेत्र में बुधवार को मुस्लिम समुदाय के लोगों ने हर्षोल्लास के साथ बकरीद मनाया। मौके पर मुस्लिम समुदायों के लोगों ने ईदगाह में ईद-उल-अजहा की नमाज अदा की। अंधरा, ठाढ़ी, गिदरगंज, डुमरा, हरना, मदना, जमैला, पस्टन, मरुकिया, गंगद्वार आदि गांवों में नमाज अदा की गई। नमाजियों ने एक-दूसरे के गले मिलकर मुबारकबाद दी। इस उपलक्ष्य पर ईदगाह और मस्जिदों को विशेष रूप से सजाया गया था। हालांकि कोरोना महामारी को लेकर नमाजियों द्वार ईदगाह में कई तरह की एहतियात बरती गई।

विधि-व्यवस्था और सुरक्षा को लेकर ईदगाहों और मस्जिदों के आसपास पुलिस बल व दंडाधिकारी की प्रतिनियुक्त की गई थी। मुफ्ती अख्तर ने बताया कि तीन दिनों तक चलने वाला यह मुसलमानों का महान पर्व शुक्रवार को समाप्त होगा। पहले दिन लोगों ने अपने औकात के मुताबिक बकरे की कुर्बानी दी है। मौलाना इमरान कासमी के मुताबिक बकरीद हज की समाप्ति पर मनाया जाता है। इस पर्व की पृष्ठभूमि में हजरत इब्राहीम द्वारा अपने प्यारे बेटे की कुर्बानी देने और अल्लाह द्वारा उसे बचा लेने की घटना है।
लौकही| प्रखंड क्षेत्र में लोगों ने शांतिपूर्ण माहौल में अपने-अपने घरों में ही की नमाज अदा की। लौकही प्रखंड इलाके के लौकही पुरानी बाजार, झहुरी अमरपुरा, करियौत, नरहिया, अंधरामंठ, दकही, संपतहा सहित विभिन्न गावों में बुधवार को मुस्लिम समुदाय के लोगों ने कोरोना कोविड-19 के गाइडलाइन का पालन करते हुए अपने-अपने घरों में ही नमाज अदा की। लौकही थानाध्यक्ष राम चन्द्र चौपाल, प्रखंड विकास पदाधिकारी रितम कुमार चौहान, अंचलाधिकारी कुमार विमल प्रकाश ने पुलिसकर्मियों के साथ क्षेत्र का दौरा किया।
कलुआही| प्रखंड के सभी गांवों में मुस्लिम समुदाय के लोगों ने बकरीद अपने-अपने घरों में शांतिके साथ मनाया। मलमल निवासी व समाजसेवी अफसर इमाम उर्फ रूफी ने बताया कि मुस्लिम समुदाय के लोगाें ने पूरे विश्व में अमन-चैन-शांति और भाईचारे को लेकर बकरीद अपने-अपने घरों में मनाया है। उन्होंने बताया कि यह पर्व इंसानियत का प्रतीक है।

खबरें और भी हैं...