हमले के डर से कांप रहे थे जज:बताया- चैंबर में घुसते ही पुलिसवाले बोले, तुम साहब को नोटिस भेजते हो, आज औकात बताते हैं...

मधुबनी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

मधुबनी के झंझारपुर न्यायालय के विधिक सेवा समिति के अध्यक्ष ADJ प्रथम अविनाश कुमार पर उनके चैंबर में घुसकर गुरुवार को घोघरडीहा थाने के दो पुलिस पदाधिकारियों SHO गोपाल प्रसाद यादव और SI अभिमन्यु शर्मा ने हमला कर दिया। इसमें ADJ बुरी तरह जख्मी भी हो गए। उनके हाथ और होंठ पर चोट के निशान हैं।

विधिक सेवा समिति के समक्ष कुछ दिन पूर्व घोघरडीहा के भोलीरही गांव की महिला उषा देवी ने थानाध्यक्ष के द्वारा उनपर झूठा मुकदमा दर्ज कराने को लेकर आवेदन दिया था। जिस पर SHO को कोर्ट ने बुधवार को तलब किया गया था, लेकिन उस दिन पुलिसकर्मी उपस्थित नहीं हुए। गुरुवार दोपहर दो बजे के बाद आते ही SHO और SI जज के कक्ष में उनके साथ पहले अभद्र व्यवहार करने लगे, इसके बाद उनके साथ मारपीट की। इसी दौरान थानाध्यक्ष ने अपनी रिवॉल्वर निकालकर जज पर तानते हुए उन्हें जान से मारने की धमकी भी दे डाली।

जज ने FIR में बताई, पूरे हमले की कहानी

हमारा नाम अविनाश कुमार उम्र 45 वर्ष वर्तमान में मैं अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश के पद पर झंझारपुर न्यायालय में पदस्थापित हूं। 18.11.21 को दोपहर 2 बजे अपने चैंबर में अपना बयान स्वेच्छा से अंकित करता हूं कि 16.11.21 को मुझे घोघरडीहा थानाध्यक्ष के खिलाफ घोघरडीहा प्रखंड की भोलीराही निवासी उषा देवी ने मुझे बीते मंगलवार को एक आवेदन दिया। जिसमें पीड़ित ने बताया था कि घोघरडीहा के थानाध्यक्ष ने उसके पति, ननद, वृद्ध सास व ससुर को झूठे मुकदमे में फंसा दिया गया है। साथ ही, पति के साथ दुर्व्यवहार किए जाने की शिकायत की। शिकायत मिलने के बाद मैंने सत्यता जानने के लिए 16.11.21 को ही थानाध्यक्ष को पक्ष रखने की सूचना फोन पर दी। लेकिन, थानाध्यक्ष आने से टालमटोल करते रहे। इसके बाद थानाध्यक्ष को गुरुवार को 11 बजे आने का समय दिया गया। थानाध्यक्ष निर्धारित समय पर न आकर दोपहर 2 बजे मेरे चैंबर में पहुंचे। चैंबर में प्रवेश करते ही थानाध्यक्ष ऊंची आवाज में बात करने लगा। जब हमने शांति से बात करने को कहा तो उसने कहा कि हम इसी अंदाज में बात करेंगे। क्योंकि यही मेरा अंदाज है। इसी बीच थानाध्यक्ष ने गाली-गलौज शुरू करते हुए कहा कि तुम मेरे बॉस (एसपी साहब) को नोटिस देकर कोर्ट बुलाते हो।

आज तुम्हारी औकात बता देता हूं। इसी बीच थानाध्यक्ष का सहयोगी एसआई अभिमन्यु कुमार शर्मा भी जबरन हमारे चैंबर में घुस आया। इसके बाद दोनों ने मिलकर मारपीट शुरू कर दी। जब हमने वरीय अधिकारियों से शिकायत की बात कही तो थानाध्यक्ष ने कहा कि एसपी साहब के आदेश व समर्थन मिलने के बाद ही आया हूं, तुम्हें तुम्हारी औकात दिखाने। तुम हमारे साहब (एसपी डॉ. सत्य प्रकाश) को नोटिस भेजकर कोर्ट में उपस्थित होने का निर्देश देते हो। साथ ही, मुझे भी नोटिस भेजते हो। तुम्हारी क्या औकात है यह आज हम तुम्हें बताते हैं। इतना कहते हुए थानाध्यक्ष गोपाल कृष्ण ने मारपीट शुरू कर दी। चैंबर में मारपीट शुरू होते ही थानाध्यक्ष के सहयोगी एसआई अभिमन्यु कुमार ने भी मारपीट शुरू कर दी।

इसी दौरान थानाध्यक्ष ने अपनी सर्विस रिवॉल्वर निकालकर मुझ पर तानते हुए कहा कि आज मैं तुम्हें दुनिया से रुखसत (विदा) ही कर देते हूं। क्योंकि तुमने हमारे बॉस (एसपी साहब) को परेशान कर रखा है। बॉस के आदेश पर ही हम तुम्हें तुम्हारी औकात दिखाने आए हैं। इसी बीच चैंबर में हल्ला सुनकर आस पास के वकील व कोर्ट कर्मी मेरे चैंबर में प्रवेश किए। अचानक से भीड़ बढ़ गई। इसी बीच किसी ने थानाध्यक्ष के हाथ से रिवॉल्वर छीन लिया। कोर्ट कर्मियों की भीड़ को देख थानाध्यक्ष व उनके सहयोगी हमारे बाथरूम में घुस कर दरवाजा अंदर से बंद कर लिए। स्थानीय पुलिस के आने के बाद दोनों बाथरूम से बाहर आए।

देर रात केस दर्ज

न्यायाधीश अभिनाश कुमार के आवेदन पर देर रात प्राथमिकी दर्ज हुई। कांड संख्या 225/2021 में आईपीसी की धारा 323, 332, 353, 506, 34 समेत आर्म्स एक्ट के तहत प्राथमिकी दर्ज हुई है। वहीं, प्राथमिकी होने के बाद झंझारपुर थानाध्यक्ष प्रशिक्षु आईपीएस नेहा कुमारी ने बताया, "दोनों पुलिसकर्मियों को जेल भेजा गया है।'

झंझारपुर बार एसोसिएशन के उपाध्यक्ष बलराम साह ने बताया कि हंगामा होते ही हम लोग जज के चैंबर में घुसे। हमने देखा कि SI अभिमन्यु कुमार जज अविनाश कुमार पर पिस्टल ताने हुए हैं, साथ ही गंदी-गंदी गालियां भी दे रहे हैं। जज साहब डर से थर-थर कांप रहे थे।

हाईकोर्ट में बैठेगी दो जजों की बेंच, 29 को होगी सुनवाई

हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस के निर्देशानुसार, स्पेशल सुनवाई के लिए यह मामला जस्टिस रंजन गुप्ता और जस्टिस मोहित कुमार साहा के बेंच के समक्ष रखा गया है। प्राप्त लेटर के अनुसार, दोपहर 2 बजे के आसपास अफसर इंचार्ज गोपाल कृष्णा, SHO और अभिमन्यु कुमार शर्मा, सब-इंस्पेक्टर घोघरडीहा जबरदस्ती जज अविनाश कुमार के चैंबर में घुस गए और गाली-गलौज करने लगे। बेंच ने मामले की सुनवाई की तिथि 29 नवंबर को निर्धारित की है।

बिहार में जज पर थानेदार-दारोगा ने तानी पिस्टल

खबरें और भी हैं...