आरोप:लोहना उत्तर के पंचायत सचिव ने मुखिया पर लाखों रुपए वित्तीय अनियमितता का लगाया आरोप

मधुबनीएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

झंंझारपुर प्रखंड की ग्राम पंचायत राज लोहना उत्तर के पंचायत सचिव दुर्गानंद झा ने बीडीओ झंझारपुर को लिखे पत्र में पंचायत के मुखिया अशोक कुमार झा पर लाखों रुपया वित्तीय अनियमितता का आरोप लगाते हुए प्राथमिकी दर्ज करने का अनुरोध किया है। पंचायत सचिव का आरोप है कि मुखिया ने 14 वीं वित्त मद से वार्ड 9, 11 एवं 12 में बनाये गये खरंजा को रातों रात बलपूर्वक उखड़वा दिया। पंचायत सचिव ने यह भी आरोप लगाया है कि पंचम वित्त मद से 1 लाख 18 हजार 9 सौ एवं चौदहवीं वित्त मद से 4 लाख 15 हजार रुपये कुल 5 लाख 33 हजार 9 सौ रुपये मुखिया अशोक झा को हस्तगत कराया।

जो पंचायत सचिव के द्वारा दिए गए आवेदन में मुखिया द्वारा स्वलिखित आवेदन भी संलग्न किया गया है। पंचायत सचिव ने पंचायत के मखिया पर आरोप लगाते हुए आवेदन में कहा कि लोहना इंफ्राटेक कंपनी के प्रोपराइटर जो मुखिया के सगे भाई संतोष झा हैं को सात निश्चय योजना से वार्ड सदस्यों द्वारा लगभग करोड़ों रुपये का हस्तांतरण करवाया । वहीं ट्रैक्टर भाड़ा के नाम पर लाखों रुपये अपने पिता गोविंद झा के नाम हस्तांतरित किया।

उन्होंने बीडीओ झंझारपुर से अनुरोध किया है कि मुखिया द्वारा मुझे वित्तीय अनियमितता का विरोध करने के कारण गलत तरीके से अभिलेख गायब करने का मनगढ़ंत आरोप लगाया गया है जो निराधार है। पंचायत सचिव ने  बीडीओ को दिये आवेदन में कहा कि वास्तविकता यह है कि पंचायत के मुखिया अशोक झा ने स्वयं बीडीओ को दिये अपने आवेदन में इस बात को स्वीकार किया है कि मुखिया होने के नाते पंचायत कार्यालय का अभिलेख मेरे घर पर रखा है । मुखिया ने यह भी स्वीकारा है कि पंचायत सचिव ने पीएनबी झंझारपुर से पंचम एवं चौदहवीं वित्त मद की राशि निकालकर मुझे हस्तगत कराया है ।

साथ ही यह भी लिखा है कि किसी भी कागजात के गायब होने अथवा किसी भी मद का वित्तीय अनियमितता या योजनाओं में अधूरा कार्य एवं गबन होने की सारी जवाबदेही मेरी होगी । पंचायत सचिव ने बीडीओ से अनुरोध किया है कि मुखिया द्वारा मुझ पर लगाया गया आरोप निराधार है। मुखिया अशोक कुमार झा, मुखिया के भाई संतोष झा एवं पिता गोविंद झा पर प्राथमिकी दर्ज करने के लिए अपने स्तर से आदेश दिया जाए । इस संबंध में लोहना उत्तर पंचायत के मुखिया अशोक झा से पुछने पर उन्होंने बताया कि मुझे इस संबंध में कोई जानकारी नहीं है। जानकारी मिलने पर बताया जाएगा।

इधर झंंझारपुर बीडीओ विनोद कुमार सिंह ने कहा कि आवेदन आया है। मुखिया और पंचायत सचिव को बुलाया जाएगा। दोनों के समक्ष बातें होंगी। इस मामले में जो भी दोषी होंगे उन पर कार्रवाई की जाएगी। पंचायत के मुखिया ने 02 जुलाई को झंंझारपुर बीडीओ को आवेदन देकर पंचायत सचिव पर वित्तीय अनियमितता और अभिलेख गायब करने का आरोप लगाया था। जिसपर तात्कालिक बीडीओ ने तत्काल प्रभाव से बैंक से राशि निकासी पर रोक लगाते हुए पंचायत सचिव से स्पष्टीकरण की मांग की था।

खबरें और भी हैं...