आयाेजन:लोगों के पास सरकारी योजनाओं के बारे में जानकारी नहीं है : कार्की

मधुबनीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
महिलाओं को प्रशिक्षण देती सृजना कार्की। - Dainik Bhaskar
महिलाओं को प्रशिक्षण देती सृजना कार्की।
  • रूरल डेवलपमेंट ट्रस्ट अररिया संग्राम में कस्तूरबा महिला मंडल का एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम

महिलाओं का समग्र विकास से महिला सशक्तिकरण के साथ परिवार, समाज और देश का विकास संभव है। उक्त बातें वर्ल्ड नेवर्स के दक्षिण एशिया के क्षेत्रीय निर्देशक सृजना कार्की ने झंझारपुर के अररिया संग्राम स्थित रूलर डेवलपमेंट ट्रस्ट के कार्यालय में कस्तूरबा महिलाओं की एक दिवसीय प्रशिक्षण के कार्यक्रम को संबोधित करते हुई सोमवार को कही। उन्होंने कहा कि मुझे प्रसन्नता है। रूलर एरिया में महिलाओं संगठित होकर अपने कर्तव्यों के प्रति समर्पित है। रूलर डेवलपमेंट ट्रस्ट से 2020 से जुड़कर काम किया जा रहा है। रूलर डेवलपमेंट ट्रस्ट की ओर से स्थानीय परमानंदपुर, नवानी, सिरखडिया, सुखेत माॅडल, पिपरौलिया और रघुनंदनपुर गांव में 9 महिला कस्तूरबा समूह बनाया गया है। जिसके द्वारा स्वच्छ जल, प्रजनन ,स्वास्थ्य, पोषण इत्यादि पर काम किया जा रहा है।

जिससे महिलाओं की विकास के साथ-साथ अपने परिवार और टोला मोहल्ला को स्वस्थ और स्वच्छ रखने की जिम्मेदारी से काम कर रही है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 का काम काम भी उक्त विभिन्न गांव में कैंप लगाकर महिलाओं के बीच जागरूकता फैला कर वैक्सीन लेने के लिए प्रेरित किया गया। इन 6 गांवों में 100 प्रतिशत वैक्सीनेशन का लक्ष्य रखा गया है। जिसमें 84 प्रतिशत वैक्सीनेशन जागरूकता के साथ कैंप लगाकर किया गया है। लोग जहां नहीं जाना चाहते थे उसे भी जागरूक कर कैंप पर लाकर उन्हें वैक्सीन दिलाया गया है। वही जागरूकता के तहत हैंडवाशिंग, साफ-सफाई, मास्क, 2 गज दूरी के लिए भी लगातार उक्त गांव में जागरूकता किया जा रहा है। उन्होंने इसके लिए क्षेत्र में निरीक्षण भी किया है।

सरकारी योजना से जाेड़कर शाैचालय बनाने का काम हाेगा

निरीक्षण के दौरान पाया कि महिलाओं के अंदर जागरूकता फैली है। उन्होंनेे बताया कि बहुत महिलाओं के परिवारों में शौचालय नहीं है। जिसे सरकारी स्कीम से जोड़कर शौचालय बनाने का काम किया जाएगा। लोगों के पास सरकारी योजनाओं की जानकारी नहीं है। जानकारी है तो वहां तक पहुंच नहीं पाते है। हम अपनी संस्था के माध्यम से प्रयास करेंगे कि लोगों को जोड़कर डेवलपमेंट का काम करें। उन्होंने अपनी संस्था के बारे में बताया कि 1951 में जॉन पीटर्स के नेतृत्व में यूएसए वर्ल्ड नेवर्स की स्थापना किया गया था। जो एशिया के दक्षिण, पूर्वी एशिया, अफ्रिका, दक्षिण अमेरिका समेत 13 देशों में चल रहा है। इंडिया में 1952 कर्नाटका से शुरू हुआ। जिसमें बिहार के मधुबनी में काम किया जा रहा है। वहीं नेपाल के 3 जिलों में फिलहाल काम किया जा रहा है। जिससे वर्ष 2000 से जीपीएसभीएस के साथ पाटनर है। इस कार्यक्रम में रूलर डेवलपमेंट ट्रस्ट के संरक्षक मो. सादुल्ला, वासुदेव दास, शालिग्राम थापा, रीना कुमारी, संगीता देवी, नीलम देवी, विमल कुमार सिंह, बालेंद्र दास समेत कई लोग शामिल थे।

खबरें और भी हैं...