पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ईद-उल-अजहा:ईद-उल-अजहा की नमाज अदा कर देश में अमन-चैन की मांगी दुआएं, प्राेटाेकाॅल का भी किया गया पालन

मधुबनी2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बकरीद पर छोटे-छोटे बच्चों के लिए लगाया गया झूला। - Dainik Bhaskar
बकरीद पर छोटे-छोटे बच्चों के लिए लगाया गया झूला।

कुर्बानी का पर्व ईद-उल-अजहा यानी बकरीद का पर्व बुधवार को धूमधाम से मनाया मनाया गया। गांव से शहर तक सुबह होते ही लोगों ने छोटे-छोटे समूह में मस्जिदों व ईदगाहों में नमाज पढ़ी। नमाज के बाद एक-दूसरे को मुबारकबाद दी। लाेगाें ने कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए नमाज अदा की है। पंडौल, सकरी, सागरपुर, मोहनबढ़ियाम, सरिसबपाही, मकसूदा, मोक्रर्मपुर, बेलाही, बलहा हाटी आदि में कोरोना प्रोटोकॉल का पालन कर बकरीद का पर्व मनाया गया। साथ ही जिला प्रशासन भी सुरक्षा-व्यवस्था पर नजर बनाए हुए रही। त्याग और बलिदान के पर्व की तैयारी पंडौल के सभी क्षेत्रों में मंगलवार देर रात तक चलती रहीं। कोरोना प्रोटोकॉल के अनुसार लगातार दूसरे साल बकरीद की नमाज ईदगाह, मस्जिदों व घरों में ही अदा की गई।

बकरीद पर्व का उल्लास ग्रामीण इलाकों में भी नजर आया। बच्चे सुबह से नए कपड़ों में घूम-घूम कर खुशी का इज्जहार कर रहे थे तो युवाओं में भी उत्साह देखा जा रहा था। सकरी की सबसे बड़ी ईदगाह में कोरोना के कारण कुछ लोगों ने नमाज अदा की जबकि मस्जिदों में सामूहिक नमाज नहीं पढ़ी गई। लोगों ने अपने घरों में नमाज अदा कर देश में अमन व शांति की दुआ की। धर्मस्थलों में सामूहिक नमाज नहीं अदा करने को लेकर विभिन्न ईदगाह व मस्जिदों की कमेटी ने रोक लगा दी थी। क्षेत्रीय विधायक समीर कुमार महासेठ, एमएलसी सुमन महासेठ, प्रमुख आशा देवी, मुखिया संघ के अध्यक्ष राम कुमार यादव, मुखिया अली अहमद, मोजाहिर अंसारी, वशी अहमद, रामबहादुर चौधरी, सईदा बानो, पावन साह, शहवाज़ महमूद मीनू, शादाब आजम ने लोगों को बधाई दी।

खबरें और भी हैं...