पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Muzaffarpur
  • Madhubani
  • Since 1953 In The Old Durga Place Bhoada, The Worship Of The Mother Is Being Done By The Vaishnava System, Due To The Corona, The Pandal Was Not Built This Time.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नवरात्र विशेष:पुरानी दुर्गा स्थान भौआड़ा में 1953 से वैष्णव पद्धति से हो रही है मां की पूजा, कोरोना के कारण इस बार पंडाल नहीं बनाया गया

मधुबनीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 1955 में ग्रामीणों के सहयोग से मंदिर का हुआ निर्माण, भक्तों की हर मुराद को पूरा करती हैं माता रानी

जिला मुख्यालय स्थित पुरानी दुर्गा स्थान भौआड़ा सहित जिले के सभी जगहों पर दुर्गा पूजा का आयोजन किया जा रहा है। पुरानी दुर्गा स्थान पूजा समिति के सचिव प्रमाेद कुमार गुप्ता ने बताया कि हर वर्ष दुर्गा पूजा के अवसर पर यहां प्रतिवर्ष लाखों रुपए की लागत से एक से बढ़कर एक पूजा पंडाल बनाया जाता था जिसे देखने दूर दूर से लोग आते थे। लेकिन गाइडलाइन के कारण इस बार पंडाल नहीं बनाया गया। इस वर्ष कोई जुलूस भी नहीं निकला गया है। सचिव ने बताया कि यहां सन 1953 से ही दुर्गा पूजा हो रही है। सन 1955 में ग्रामीणों के सहयोग से मंदिर का निर्माण किया गया। इस पूजा कमेटी में वर्तमान में 31 सदस्य हैं। इस मंदिर में कोतवाली चौक से लेकर बसुआड़ा सहित अन्य जगहों से 50 हजार भक्त दर्शन को आते थे।

पुरानी दुर्गा मंदिर में पूजा के दौरान बली नहीं दी जाती है

आयोजक ने बताया कि पुरानी दुर्गा स्थान भौआड़ा में वैष्णव पद्धति से पूजा-अर्चना होती है। यहां कभी बली प्रदान नहीं किया गया है। दुर्गा पूजा के दौरान समिति की ओर से माता की आरती दिन के दोपहर 1 बजे व रात्री 8 बजकर 30 मिनट पर होती है। इस दौरान भी सीमित संख्या में ही भक्त शामिल होते हैं। सचिव ने बताया कि इस क्षेत्र में 1953 से पहले कहीं दुर्गा पूजा नहीं होती थी। इसके बाद स्थानीय लोगों व ग्रामीणों के निर्णय के बाद पूजा शुरू की गई।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर के बड़े बुजुर्गों की देखभाल व उनका मान-सम्मान करना, आपके भाग्य में वृद्धि करेगा। राजनीतिक संपर्क आपके लिए शुभ अवसर प्रदान करेंगे। आज का दिन विशेष तौर पर महिलाओं के लिए बहुत ही शुभ है। उनकी ...

और पढ़ें