सतर्कता / प्रखंडाें के क्वारेंटाइन सेंटर में दिल्ली, मुबंई, पुणे सूरत व कोलकाता से आने वालों को रखा जाएगा

मधेपुर क्वारेंटाइन सेंटर पर रह रहे प्रवासी। मधेपुर क्वारेंटाइन सेंटर पर रह रहे प्रवासी।
X
मधेपुर क्वारेंटाइन सेंटर पर रह रहे प्रवासी।मधेपुर क्वारेंटाइन सेंटर पर रह रहे प्रवासी।

  • क्वारेंटाइन सेंटरों में 12-14 दिन पूरा करने वाले वैसे प्रवासी जिनमें कोई लक्षण नहीं है, उन्हें घर भेज दिया जाएगा

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

मधुबनी. प्रखंड मुख्यालय के क्वारेंटाइन सेंटरों में अब दिल्ली, मुबंई, पुणे, सूरत, अहमदाबाद एवं कोलकाता से आनेवाले प्रवासियों को ही रखा जाएगा। इन स्थानों से आनेवाले प्रवासियों को ए कैटेगरी में रखा गया है। जबकि देश के अन्य हिस्सों से प्रखंड मुख्यालय आनेवाले असिम्प्टोमैटिक प्रवासियों को निबंधन फार्म भरने के बाद होम क्वारेंटाइन में रहने के लिए घर भेज दिया जाएगा। यह आदेश जिलाधिकारी डॉ. एनआर देवरे ने वीडियो कॉफ्रेसिंग के माध्यम से गुरुवार शाम बीडीओ एवं थानाध्यक्षों को दी। डीएम के आदेशानुसार अब प्रवासियों को दी जानेवाली डिग्निटी किट भी प्रखंड स्तरीय क्वारेंटाइन सेंटरों में ही वितरित किए जाएंगे। जिस कारण पंचायत स्तरीय क्वारेंटाइन सेंटरों में डिग्निटी किट से अद्यतन वंचित सैकड़ों प्रवासी मजदूरों को अब यह लाभ नहीं मिल पाएगा।  पंचायत स्तरीय क्वारेंटाइन सेंटरों में 12-14 दिन पूरा करनेवाले वैसे प्रवासी जिनमें बीमारी के किसी तरह का लक्षण नहीं है, उन्हें घर भेज दिया जाएगा। जिसके बाद पंचायत स्तरीय क्वारेंटाइन सेंटरों को बंद कर दिया जाएगा। 
14 दिन पूरा होने के बाद 119 प्रवासियों को घर भेजा गया
इधर प्रखंड आवासन कोषांग में प्रतिनियुक्त कर्मी बीआरपी निर्मल कुमार ने बताया कि पंचायत स्तरीय क्वारेंटाइन सेंटरों में पहले भेज दिए गए ए कैटेगरी के प्रवासियों को चिन्हित कर प्रखंड स्तरीय क्वारेंटाइन सेंटर में वापस लाने का कार्य शुक्रवार से शुरू कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि क्वारेंटाइन सेंटर में 14 दिन पूरा करने वाले 119 प्रवासियों को शुक्रवार को घर भेज दिया गया। जबकि प्रखंड क्षेत्र के कुल 108 क्वारेंटाइन सेंटरों पर शुक्रवार को 5617 प्रवासी मजदूर क्वारंटीन थे।
ओवर लोडिंग कर लाए जा रहे प्रवासी
शुक्रवार पुर्वाह्न लगभग 10 बजे प्रवासी मजदूरों से ओभर लोडेड बस जिला से प्रखंड मुख्यालय पहुंची। जिस बस पर लगभग सात दर्जन प्रवासी मजदूर सवार थे। प्रखंड मुख्यालय स्थित कन्या मध्य विद्यालय पर सभी मजदूरों से निबंधन फार्म भरवाने के बाद उन्हें छोड़ दिया गया। जिसके बाद सभी प्रवासी पांव पैदल अपने घर की ओर चल पड़े। प्रखंड मुख्यालय में स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा प्रवासियों का बिना थर्मल स्क्रीनिंग किए उनके हाथ पर मुहर लगाकर घर भेज दिया जाता है। शाम ढ़लने के बाद तो मुहर लगाने के लिए भी स्वास्थ्य कर्मी मौजूद नहीं रहा करते हैं। 
कोविड जांच के लिए नहीं लिए गए सैंपल
मधेपुर प्रखंड क्षेत्र से कोविड 19 जांच के लिए 8 मई के बाद एक भी प्रवासी का सेंपल शुक्रवार तक नहीं लिया गया था। उल्लेखनीय है कि 8 मई को क्वारंटीन हुए प्रवासियों ने 14 दिन की अवधि पूर्ण कर ली है। क्रमवार क्वारेंटाइन के 14 दिन की अवधि पूर्ण कर अब प्रवासी घर की ओर जाने लगे हैं। लेकिन स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही के कारण जांच के लिए सेंपल नहीं लिया जा रहा है। जबकि घर जाने वाले प्रवासियों में ए कैटेगरी के प्रवासी भी शामिल हैं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना