पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पूजा:गणेश के अष्ट रुपों की पूजा करने से मनवांछित फल की होती है प्राप्ति

मनीगाछी3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • गणेश को सिद्धि विनायक रूप की पूजा करना ज्यादा मंगलकारी होता है

भट्टपुरा स्थित गणेश मंदिर परिसर में रविवार को गणेश पूजनोत्सव के अवसर पर पं. गुणानंद झा ने अपने प्रवचन में कहा कि यदि श्रद्धा एवं विधान के साथ गणेश भगवान की पूजा की जाए, तो जीवन के समस्त बाधाओं को अन्त कर विघ्नहर्ता अपने भक्तों पर सौभाग्य, समृद्धि एवं सुखों की बारिश करते हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि भगवान गणेश का महत्व हर नए कार्य, हर बाधा या विघ्न के समय उन्हें श्रद्धापूर्वक स्मरण मात्र से सारे दुखों, मुसीबतों से छुटकारा पाया जा सकता है। इसलिए भगवान गणेश को विघ्न विनाशक भी माना गया है।

उन्होंने कहा कि गणेश के अष्ट रुपों की पूजा करने मात्र से लोगों को मनवांछित फल की प्राप्ति होती है। गणेश भगवान को सिद्धि विनायक रुप की पूजा करना ज्यादा मंगलकारी होता है। भगवान गणेश भगवान शिव और पार्वती के पुत्र हैं। भगवान गणेश बुराइयों और बाधाओं का विनाश करने वाले भगवान हैं। हिंदू धर्म के अनुसार, परिवार और समुदाय के अंदर कोई भी काम उनका आशीर्वाद लेने के बाद ही शुरू होता है। भगवान गणेश को ज्ञान, लेखन, यात्रा, वाणिज्य और सौभाग्य का प्रतीक माना जाता है। 108 नामों में से इन्हे गजानन, गजदंत और विघ्नहर्ता के नाम से भी जाना जाता है।

खबरें और भी हैं...