तीसरी लहर की दस्तक:जिले में एक साथ मिले 77 कोरोना संक्रमित एक्टिव केस हुए 108, दो को किया भर्ती

मोतिहारी13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सदर अस्पताल के आटीपीसीआर जांच केंद्र पर जांच करते कर्मी। - Dainik Bhaskar
सदर अस्पताल के आटीपीसीआर जांच केंद्र पर जांच करते कर्मी।
  • 106 होम आइसोलेट, शहर में मिले 33 संक्रमित, रक्सौल में सात केस मिले

जिले में कोरोना की तीसरी लहर की प्रकोप तेज हो गई है। एक साथ मिले 77 संक्रमित मिले हैं। इससे हडकंप मच गया है। साथ ही स्वास्थ्य विभाग हरकत में आ गया है। डीएम के निर्देश पर लगातार जांच की संख्या बढ़ाई जा रही है। वहीं कोरोना टीका देने पर जोर दिया जा रहा है। शुक्रवार को शहर में एक साथ 33 कोरोना संक्रमित मरीज मिले हैं। इसमें 32 मोतिहारी सदर अस्पताल में तथा एक संक्रमित शरण नर्सिंग होम में मिले हैं। वहीं रक्सौल 7, अरेराज में 5, चकिया, ढाका व संग्रामपुर में 4-4, घोड़ासहन, कोटवा में 3-3, मेहसी, सुगौली में 2-2, रक्सौल, आदापुर, पीपराकोठी, तुरकौलिया, हरसिद्धि में 1-1 संक्रमित मिले हैं। इसमें एक संक्रमित को मोतिहारी कोविड केयर सेंटर तथा एक को रक्सौल कोविड केयर सेंटर में भर्ती किया गया है।

जबकि 106 संक्रमितों को होम आइसोलेट किया गया है। इसकी पुष्टि सीएस अंजनी कुमार ने की। उन्होंने बताया कि लगातार कोरोना संक्रमण की जांच चल रही है। लोगों से अपील करते हुए कहा कि बगैर आवश्यकता के भीड़-भाड़ वाले इलाकों में जाने से परहेज करें। साथ ही बगैर मास्क लगाए लोग घर से बाहर नहीं निकले। कोरोना गाइड लाइन का सभी लोग सख्ती से पालन करें। संक्रमण होने पर घबराएं नहीं। किसी प्रकार की कोरोना की आशंका होने पर नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पर जांच अवश्य कराएं। संक्रमण होने पर विशेषज्ञ चिकित्सक से उचित परामर्श के बाद ही दवा का सेवन करें तथा गर्म व हेल्दी भोजन करें।

6971 लोगों की जांच की गई
शुक्रवार को 6971 लोगों की जांच की गई। इसमें 2176 लोगों का आरटीपीसीआर, ट्रू नेट से 74, एंटीजन से 4721 लोगों की जांच की गई। इसमें आरटीपीआर जांच में 17 संक्रमित मिले हैं। जबकि एंटीजन टेस्ट में 60 लोग संक्रमित मिले हैं। वहीं गुरुवार को 36231 लोगों को कोरोना का टीका दिया गया है। इसमें 31564 लोगों को प्रथम डोज तथा 4667 लोगों को सेकेंड डोज दिया गया है। अबतक 5285298 लोगों को कोरोना का टीका दिया जा चूका है। मंगलवार को कोरोना की तीसरी लहर में छह लोग संक्रमित मिले थे। जिन्हें होम आइसोलेट कर दिया गया था। फिलहाल सभी संक्रमितों की स्थिति समान्य बनी हुई है।

तीसरी लहर का असर कमजोर, भर्ती होने वालों का प्रतिशत घटा

डाॅ. सुनिल कुमार ने बताया कि कोरोना की तीसरी लहर का असर अबतक कमजोर देखने को मिला है। उन्होंने बताया कि कोरोना की प्रथम व दूसरी लहर के दौरान लोगों में गंध व स्वाद चला जाता था। जबकि तीसरी लहर में स्वाद व गंध नहीं जा रहा है। जबकि प्रथम व दूसरी लहर में ड्राई कफ के साथ कोल्ड की समस्या हो रही थी। जबकि तीसरी लहर में ड्राई कफ नहीं हो रहा है तथा कोल्ड की समस्या मिल रही है। उन्होंने बताया कि प्रथम व दूसरी लहर में फेफड़े में कोविड जेली दिखाई दे रही थी। जबकि तीसरी लहर में कोई कोविड़ जेली नहीं बन रहा है। साथ ही हल्की बुखार आ रही है। वहीं प्रथम व दूसरी लहर में भारी कमजोरी होती थी, जो तीसरी लहर में कम हो रही है। जबकि प्रथम व दूसरी लहर के दौरान 10-12 प्रतिशत लोगों को भर्ती करना पड़ता था, जो तीसरी लहर के दौरान 1 प्रतिशत से भी कम है। उन्होंने कहा की अभी इसको कोरोना का लहर नहीं कहा जा सकता है। भर्ती मरीजों की संख्या कम देखने को मिल रही है।

खबरें और भी हैं...