पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नाव से लाइव रिपोर्टिंग:पुछरिया के सभी रास्त बंद, लोगों ने नाव पर सामान लादकर नए ठिकाने की तलाश में किया पलायन

मोतिहारी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुछरिया से नाव पर सामान लादकर जाते ग्रामीण। - Dainik Bhaskar
पुछरिया से नाव पर सामान लादकर जाते ग्रामीण।
  • पुछरिया गांव में बुधवार की देर रात्रि गंडक में आई बाढ़ का पानी घरों में घुसना शुरू हो गया

संग्रामपुर प्रखंड के पुछरिया गांव में बुधवार की देर रात्रि गंडक में आई बाढ़ का पानी घरों में घुसना शुरू हो गया। ग्रामीण पानी घुसने के बाद सामानों को सुरक्षित करते हुए रातभर रतजगा किया और गुरुवार को सूर्योदय के साथ ही अपने घरों से पलायन शुरू कर सुरक्षित स्थानों पर जाने लगे। गंडक का रूप भयावह हो चुका था, जिसको देखकर अधिकतर ग्रामीण दूसरे जगहों पर चले गए लेकिन बहुत लोग विवशता और घरों की रखवाली के लिए गांव में ही रह गए। पुछरिया गांव जाने के लिए मंगलापुर ढाला, नयका टोला और रमना टोला से सम्पर्क पथ जुड़ा हुआ है।

अत्यधिक पानी आने के कारण तीनों सम्पर्क पथ पानी से पूरी तरह भंग हो गए। इस कारण नावों से ही लोग परिचालन कर रहे थे। कुछ अपने सगे संबंधियों के यहां चले गए तो कुछ कुछ बांध पर शरण लेने लगे थे। ग्रामीण मटर महतो नाव पर अपने परिवार के सभी सदस्यों को बैठाते हुए बोले कि अब जहां जगह मिलेगी, वहीं आश्रय बनाया जाएगा। इसी तरह अन्य लोग भी नावों के सहारे घरों का सामान, बाइक, साइकिल लादकर सुरक्षित स्थानों की तरफ धीरे धीरे ला रहे थे। वहीं पुछरिया गांव की आबादी 500 के लगभग है। यहां के स्कूल में बाढ़ का पानी घुस गया है।

गांव में पेयजल का भी संकट, बाढ़ का पानी पिने को मजबूर हैं ग्रामीण

तटबंध पर गंडक के पानी दबाव बढ़ा

चंपारण तटबंध पर गंडक के पानी दबाव बढ़ने लगा है। स्थानीय लोग रात को बांध पर डटे हुए है। हालांकि पानी अभी विगत वर्ष के लेबल से एक से डेढ़ फीट नीचे बह रहा है। लेकिन पानी बढ़ने की रफ्तार से स्थानीय लोग डरे हुए है। लोगों को आशंका है, कि विगत वर्ष निहालु टोला के सामने टूटे तटबंध के बगल में बने स्लूइस गेट समेत करीब पांच अन्य जगहों से पानी उछला था। जहां इस वर्ष कोई कार्य नहीं कराया गया है। भवानीपुर उत्तरी दक्षिणी के मुखिया समेत अन्य ग्रामीण वहां मौजूद हैं।

नाव से तय की 800 मीटर की दूरी तय कर पहुंचा रिपोर्टर

संग्रामपुर दैनिक भास्कर रिपोर्टर पुछरिया गांव में बाढ़ की ग्राउंड रिपोर्ट करने के लिए मंगलापुर ढाला के पास से एक नाव की सहायता गांव में लगभग आठ सौ मीटर की दूरी तय कर अलग अलग जगहों पर लोगों से उनकी परेशानियों को जाना। धर्मेंद्र पांडेय के पक्का मकान के पास रुककर उनसे बाढ़ के बारे में जानकारी ली गई।

केसरिया : गोपालगंज-छपरा जाने वाली सड़क को तीन जगहों पर काटा गया

प्रखंड के गंडक नदी में आए बाढ़ की पानी के बढ़ते दबाव के कारण जिले के सतरघाट पुल के समीप अप्रोच पथ को काट दिया गया है। इसी पथ पर गोपालगंज की तरफ इसे दो स्थानों पर काटा गया है। जिससे इस पथ पर आवागमन बंद हो गया है। अब लोग नाव के सहारे आ जा रहे है। ग्रामीणों ने बताया कि तीन जगह पर 15 फीट की चौड़ाई में अप्रोच पथ को काटा गया है। सभी कट आधा किमी के अंतराल पर है। सड़क कटने से करीब आधे दर्जन गांव को राहत मिली है। जल संसाधन विभाग के निर्देश पर पुल निर्माण निगम लिमिटेड ने गुरुवार को उक्त अप्रोच पथ को एक जगह काटवाना शुरू किया।

पूर्वानुमान : दो दिनों तक जिले में होगी बारिश, विभाग ने जारी किया अलर्ट

जिले में मानसून सक्रिय हो गया है। जिसके कारण रुक-रुककर बारिश हो रही है। लगातार बारिश होने से तापमान में भी गिरावट दर्ज की जा रही है। शुक्रवार को अधिकतम तापमान 31 डिग्री व न्यूनतम तापमान 22 डिग्री रिकार्ड किया गया। जिसके कारण मौसम खुशगवार हो गया है। शुक्रवार को भी जिले के कई स्थानों पर बारिश हुई। मौसम विभाग ने अगले दो दिनों तक मध्यम से भारी बारिश होने का अनुमान व्यक्त किया है। मौसम वैज्ञानिक डॉ. अब्दुल सत्तार व केवीके पीपराकोठी की डॉ. नेहा पारिख ने अगले पांच दिनों तक मानसून के सक्रिय रहने की बात कही है।

खबरें और भी हैं...