प्रशासन की सारी व्यवस्था फेल / लगातार आ रहे प्रवासी मजदूर से क्वारेंटाइन सेंटर की व्यवस्था चरमराई

शांतिपुरी मुहल्ला के मुख्य मार्ग पर लगा बांस-बल्ला। शांतिपुरी मुहल्ला के मुख्य मार्ग पर लगा बांस-बल्ला।
X
शांतिपुरी मुहल्ला के मुख्य मार्ग पर लगा बांस-बल्ला।शांतिपुरी मुहल्ला के मुख्य मार्ग पर लगा बांस-बल्ला।

  • बंजरिया, अजगरी व चैलाहा के निजी विद्यालय हाउस फुल, प्रशासन शहर में तलाश रहा है निजी विद्यालय, दो बजे के बाद मिल रहा है भोजन

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

मोतिहारी. प्रखंड में प्रतिदिन आ रहे सैकड़ों प्रवासी मजदूरों के कारण अंचल प्रशासन की सारी व्यवस्था फेल हो गई है। कई क्वारेंटाइन सेंटर में एकाएक कमरे में क्षमता से अधिक लोगो को रखना पड़ रहा है। कई विद्यालयों में जगह नहीं होने के कारण प्रवासियों को बरामदे की जमीन पर सुलाया जा रहा है। सेंटरों पर जन दवाब बढ़ने के कारण मूलभूत सुविधाओं को उपलब्ध कराने में अं;ल प्रशासन विफल साबित हो रहा है। ज्यादातर सेंटरों पर प्रवासियों को नाश्ता तक नहीं मिल पा रहाहै। खाना भी एक बार मिल पा रहा है व ह भी काफी देरी सेष। काफी सेंटर पर खाना 2 बजे के बाद पहुंच रहा है। किसी किसी सेंटर पर 3 बजे के बाद खाना पहुंच रहा है। जिसके कारण भूखे मजदूर आक्रोशित हो जा रहे हैं। जिससे वहां कार्यरत कर्मचारी की परेशानी बढ़ जा रही है।  मजदूरों का कहना है कि वह अपने गांव घर इसलिए आये थे कि अपनी सरकार अपना प्रशासन व अपने जनप्रतिनिधि है। यह सभी लोग हमारी सुविधा का ख्याल रखेंगे, परन्तु यहां उल्टा हो रहा है। हम खुद क्वारेंटाइन होने के लिए सेंटर ओर चल कर आये, कइयों को प्रशासन लेकर आई। उन्होंने प्रशासन से सवाल किया कि हमें जिस स्थिति में रखा गया है क्या व8ह रह सकते हैं।  बताते चले कि लॉक डाउन 4 के दौरान सरकार द्वारा आने जाने की दी गई छूट के कारण प्रतिदिन प्रवासी लोगो का आना जारी है। साथ ही ईद सामने होने के कारण भी ज्यादातर लोग अपने घर आ रहे है।
 प्रखंड क्षेत्र के सेमरा, गोबरी, मोहम्मदपुर, सिसवनिया, जटवा, जनेरवा, फुलवार, खैरी, सुंदरपुर, चिचोरहिया, सेमरहिया, सिसवा,अजगरी व चैलाहा में अल्पसंख्यक लोगों की आबादी है। यहां के प्रवासी लोगो ने घर आने के रजिस्ट्रेशन करा रखा है। एक तो लॉकडाउन दूसरी ईद इसमें सबको घर आना है। प्रखंड के सिसवा पूर्वी का उत्क्रमित उच्च विद्यालय उर्दू, राजकीय मध्य विद्यालय सिसवा हिंदी, उत्क्रमित उच्च विद्यालय अजगरवा, राजकीय उच्च विद्यालय मोखलिसपुर, श्री विष्णु महावीर उच्च विद्यालय सेमरा, कर्पूरी ठाकुर इंटर कॉलेज, जीवन पब्लिक स्कूल, मॉडर्न पब्लिक स्कूल, कैम्ब्रिज पब्लिक स्कूल में क्वारेंटाइन सेंटर चलाया जा रहा है।
स्थानीय लोगों ने रास्ते को कर दिया है सील
सीओ मणि कुमार वर्मा ने बताया कि वे गुरुवार को शांतिपुरी मुहल्ले के शांति निकेतन विद्यालय के क्वारेंटाइन सेंटर के लिए गए थे। परन्तु मुहल्ले वाले ने सेंटर बनाने से इनकार कर दिया। साथ ही मुहल्ले के मुख्य मार्ग को सील कर बाहरी लोगों के प्रवेश को वर्जित कर दिया। उनका तर्क भी सही है अब तक जितने सेंटर बनाये गए सभी बस्ती से बाहर बनाये गए है। परंतु यह विद्यालय बिल्कुल मुहल्ले के बीचों बीच है, आस पास केवल आवासीय घर ही है। जिसमे बड़े बुजुर्ग हैं। जिसके बाद एमकेडी विद्यालय को क्वारेंटाइन सेंटर के लिए तैयार किया जा रहा है। शुक्रवार तक विद्यालय को सेनेटाइज कर तैयार कर लिया जाएगा। विधायक डॉ शमीम ने प्रशासन के कार्यशैली पर प्रश्नचिन्ह उठाते हुए कहा कि जिस तरह राज्य व केंद्र की सरकार कन्फ्यूज है, उसी तरह उनके पदाधिकारी भी कन्फ्यूज है। उन्हें मालूम हीं नही वह क्या कर रहें है।  एक कमरे में 16 से 17 लोगो को जानवरों की तरह ठूंसठूंस कर रख दिया गया है। सरकार द्वारा जो मेन्यू जारी किया गया है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना