पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

व्यवसायी हत्याकांड:स्वर्ण व्यवसायी की हत्या के विरोध में बंद रहा सर्राफा बाजार, उच्चस्तरीय जांच की उठी आवाज

मोतिहारी8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
स्वर्ण व्यवसायी की हत्या के विरोध में बंद रक्सौल की सर्राफा दुकानें। - Dainik Bhaskar
स्वर्ण व्यवसायी की हत्या के विरोध में बंद रक्सौल की सर्राफा दुकानें।
  • रक्सौल के आठ कट्‌ठा जमीन से जुड़ा है मामला, एएसपी रक्सौल के नेतृत्व में जांच टीम गठित

रक्सौल बाजार के स्वर्ण व्यवसायी एवं पलनवा थाना क्षेत्र के परसौना तपसी गांव निवासी कपिलदेव सर्राफ व उसके चचेरा पोता भुटकुन कुमार उर्फ चंदन की सोमवार की देर शाम गोली मारकर हत्या के विरोध में मंगलवार को रक्सौल सर्राफा बाजार बंद रहा। सर्राफा व्यवसायी संघ के अध्यक्ष माधोलाल सर्राफ की नेतृत्व में पहले व्यवसायियों ने अपनी-अपनी दुकानें बंद रखी। संघ ने आरोपियों को पुलिस जल्द गिरफ्तार करें और पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने की मांग की। इस दौरान माधोलाल सर्राफ ने कहा कि गत वर्ष दीपावली के समय सोना-चांदी आभूषण कारीगर मुकेश की भी हत्या आदापुर नहर रोड में कर दी गयी थी। उसमें आज तक पुलिस आरोपी को नहीं पकड़ पाई। ये सब प्रशासनिक विफलता को दर्शाता है।

व्यापारी हर बार सुरक्षा की मांग करते हैं। लेकिन उन्हें सुरक्षा नहीं दी जाती। इस घटना की उच्चस्तरीय जांच होनी चाहिए। इधर, विरोध के बाद सभी दुकानें बंद रही और लोगों ने अपनी एकजुटता दिखाई। विरोध प्रदर्शन के दौरान व्यवसायियों में आक्रोश था। उनका कहना था कि आखिर यह कब तक चलेगा। कैसे वे लोग निडरता के साथ अपना व्यवसाय चलाएं। अपराधी बेलगाम हो चुके हैं। मौके पर सुमन सर्राफ, उमेश सर्राफ, रमेश सर्राफ, कन्हैया सर्राफ, हरेन्द्र प्रसाद सर्राफ, भगत सर्राफ, प्रेमचंद्र सर्राफ, मुकेश सर्राफ, मोहन सर्राफ सहित दर्जनों की संख्या में स्वर्ण व्यवसायी मौजूद थे।

रक्सौल में विरोध-प्रदर्शन के दौरान व्यवसायियों में पुलिस प्रशासन के विरुद्ध दिखा आक्रोश, नारेबाजी भी की

गोली लगने के बाद कपिलदेव ने दिया था बयान, वह वीडियो भी हुआ वायरल

रक्सौल बाजार से परसौनी तपसी गांव लौटने के दौरान बाइक सवार अपराधियों ने व्यवसायी कपिलदेव को डिबनी घाट पुल के समीप गोली मारी। जख्मी हालत में किसी व्यक्ति द्वारा उनका वीडियो बनाया गया, जो वायरल हो रहा है। उक्त वीडियो में कपिलदेव ने बताया है कि एक बाइक पर तीन लोग सवार थे। जिसमें उसने दो की पहचान की। जबकि तीसरे की पहचान नहीं कर सका। इसमें रक्सौल का दिनेश प्रसाद उर्फ दिनेश महासेठ तथा सिसवा गांव का मधु यादव का नाम बताया है। इलाज के क्रम में कपिलदेव सर्राफ की भी मौत देर रात हो गई।

अलस्सुबह तीन बजे पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया कपिलदेव का शव
रक्सौल शहर के एसआरपी अस्पताल में गोली लगने के बाद इलाजरत कपिलदेव प्रसाद सर्राफ की मौत दे रात को हो गई। एसआरपी अस्पताल के डॉक्टर सुजीत कुमार बताया कि अंतिम समय में उनका हार्ट काम करना बंद कर दिया, जिससे उनकी मौत हो गई। उन्होंने बताया कि गोली लगने के बाद खून ज्यादा निकल गया था, जब उनको अस्पताल लाया गया तो उनका बीपी बिल्कुल नहीं था। पुलिस ने अलस्सुबह तीन बजे कपिलदेव के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा।

फर्जी एसपी ने जिस मोबाइल से दिनेश को दी धमकी, वह बरामद

एसपी ने बताया कि जिस नंबर से रक्सौल के दिनेश प्रसाद को फोन कर धमकाया गया है। उक्त नंबर फर्जी पाया गया है। वह मोतिहारी पुलिस अधीक्षक कार्यालय का नहीं है। फिलहाल उक्त मोबाइल को बरामद कर लिया गया है। साथ ही ऑडियो की जांच की जा रही है। किसने एसपी बनकर दिनेश को धमकाया था। इसकी पड़ताल चल रही है। जल्द ही भूमि माफियाओं के सिंडिकेट व हत्याकांड से जुड़े बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

मधु यदउवा आउर दिनेश महासेठवा गोली मारलस

​​​​​​​रामगढ़वा| कपिलदेव शर्राफ ने इलाज के दौरान कराहते हुए महत्वपूर्ण खुलासा किया। एक वीडियो में ये कराहते हुए कह रहे थे कि दादा रे दादा मधु यदउआ आउर दिनेश महाशेठवा गोली मार देलन सन। गोली मारने में तीन व्यक्तियों के शामिल होने की बात कह रहे थे। इसमें एक को पहचान में नहीं आने की उन्होंने कही थी। दोनों शवों का पोस्टमार्टम पलनवा पुलिस ने करा लिया है। पोस्टमार्टम के बाद एक एम्बुलेंस से दोनों शवों को उनके परसौना तपसी अवस्थित घर पर पुलिस अभिरक्षा में लाया गया। शव पहुंचते ही घर पर काेहराम मच गया। एसपी नवीन चंद्र झा ने बताया कि कपिलदेव सर्राफ व दिनेश प्रसाद के बीच पंचनामा बनाने के समय रक्सौल थाना के जमादार संजय कुमार सिंह की भी मौजूदगी की बात सामने आई है।​​​​​​​

खबरें और भी हैं...