पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

व्यवसाय प्रभावित:ट्रक एसोसिएशन की हड़ताल से 50 करोड़ से अधिक का व्यवसाय प्रभावित

मोतिहारी4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • पांच हजार से अधिक ट्रक खड़े हैं सड़क किनारे, बालू-गिट्टी, कोयला व अन्य सामान की आपूर्ति रुकी, एसोसिएशन के सदस्यों ने मांगों को लेकर रैक पॉइंट पर किया प्रदर्शन

ट्रक एसोसिएशन की अनिश्चितकालीन हड़ताल से दो दिनों में जिले में 50 करोड़ से अधिक का व्यवसाय प्रभावित हुआ है। जिले में पांच हजार से अधिक ट्रक हैं। जो सड़क किनारे खड़े हैं। उनका परिचालन बंद होने से सामान की आपूर्ति भी बंद हो गई है। जिले में ट्रक से गिट्‌टी-बालू, कोयला, किराना का सबसे अधिक कारोबार होता है। इसके अलावे ट्रक सामान की ढुलाई भी करता है। जिले में एक सौ से अधिक ट्रांसपोर्ट कंपनियां हैं। जिससे दस हजार से अधिक ट्रक जुड़े हैं। यहां से ट्रक नेशनल परमिट पर चलते हैं।

जो परदेस में गए हैं उनको छोड़ अन्य सभी ट्रकों का परिचालन बंद है। ट्रक एसोसिएशन सरकार की ओर से मांग माने जाने तक चक्का जाम रखने पर अडिग है। मंगलवार को रैक प्वाइंट ट्रक ऑनर एसोसिएशन ने हड़ताल के समर्थन में रैक प्वाइंट पर प्रदर्शन किया। इस दौरान एफसीआई के चावल की लोडिंग को रोक दिया। प्रदर्शनकारियों ने कहा कि सरकार उनके साथ सौतेला व्यवहार कर रही है। यहां ट्रक ऑनरों का शोषण हो रहा है। जब तक सरकार इसको बंद नहीं करती उनका हड़ताल जारी रहेगा।

बढ़ सकते हैं सामान का दाम

मोतिहारी का किराना बाजार भी ट्रकों पर निर्भर है। सभी एजेंसी व होलसेल का सामान ट्रक से ही पटना या अन्य स्थानों से आता है। प्रतिदिन 40-50 ट्रक सामान बाहर से मंगाया जाता है। ट्रकों की हड़ताल से साेमवार से सामान की आपूर्ति बंद हो गई है। हड़ताल जल्द खत्म नहीं हुआ तो किराना बाजार में उछाल आने की संभावना है।

जिले के एक हजार से अधिक ट्रक बालू-गिट्‌टी के कारोबार से जुड़ा है
जिले में एक हजार से अधिक ट्रक बालू-गिट्‌टी के कारोबार से जुड़ा है। ट्रक सोनपुर, कोइलवर, पटना, मोकामा सहित अन्य जगहों से बालू लाता है। जबकि झारखंड व शेखपुरा से गिट्‌टी। यहां बालू 50-80 हजार रुपए तक बिकता है। जबकि गिट्‌टी एक से सवा लाख रुपए तक। इस हिसाब से इस व्यवसाय को एक दिन में करीब दस करोड़ रुपए का नुकसान हो रहा है।

यह है मांग
मोटरवाहन अधिनियम 2019 को रद्द कर पुराने मोटर वाहन अधिनियम 1988 को लागू करना, जेपी सेतू, राजेंद्र सेतु व अन्य बंद पड़े पुल से खाली ट्रक का परिचालन शुरू करना, पुलिस द्वारा जांच के नाम पर अवैध वसूली बंद कराना, जगह-जगह नो एंंट्री को खत्म कराना, खनन नीति के तहत ट्रकों के परिचालन का समय सीमा निश्चित करना आदि शामिल है।

मोतिहारी में समान्य स्थिति है। यहां चक्का जाम का असर नहीं है। ट्रकों एवं अन्य वाहनों का परिचालन भी हो रहा है। एसोसिएशन की मांग सरकार से है। सरकार का निर्देश के अनुरूप कार्रवाई की जाएगी।
अनुराग कौशल सिंह, डीटीओ, मोतिहारी

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- लाभदायक समय है। किसी भी कार्य तथा मेहनत का पूरा-पूरा फल मिलेगा। फोन कॉल के माध्यम से कोई महत्वपूर्ण सूचना मिलने की संभावना है। मार्केटिंग व मीडिया से संबंधित कार्यों पर ही अपना पूरा ध्यान कें...

और पढ़ें