पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मुसीबत:बारिश में जर्जर हुई झौआ राम चैनपुर मुख्य सड़क की मरम्मत कराने की मांग की गई

मोतिहारी15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कुण्डवा चैनपुर में सड़क बनाने की मांग करते जदयू नेता। - Dainik Bhaskar
कुण्डवा चैनपुर में सड़क बनाने की मांग करते जदयू नेता।
  • गवंद्री, जटवलिया, खरूआ चैनपुर, समनपुर पंचायत के लोगों को हो रही परेशानी

विकास की प्रथम सीढ़ी सड़क है। सड़क के माध्यम से ही विकास दरवाजे तक पहुंचती है। बारिश और बाढ़ ने चैनपुर जाने वाली मुख्य सड़कों के साथ ग्रामीण संपर्क सड़कों को भी बुरी तरह ध्वस्त कर दिया है। जिससे थाना क्षेत्र के किसानों, व्यवसायियों, जरूरतमंदों को भारी परेशानियां हो रही है। बाढ़ एवं बारिश से तबाह थाना क्षेत्र वासियों की स्थिति की जानकारी लेने पहुंचे जदयू किसान प्रकोष्ठ के नेताओं की टीम ने बताया की कुण्डवा चैनपुर से प्रखंड मुख्यालय ढाका को जोड़ने वाली एकमात्र मुख्य सड़क की बदहाल हालत के कारण थाना क्षेत्र की लगभग आधी जनसंख्या को काफी परेशानियां हो रही है। गवंद्री, जटवलिया, खरूआ चैनपुर, समनपुर पंचायत के करीब बीस हजार की आबादी आवागमन के लिए सीधे उक्त एकमात्र मुख्य सड़क पर ही आधारित है।

यह सड़क मुसहरिया, मेसौढा, गवंद्री, झौआ राम में गड्ढे में तब्दील हो गयी है। नाले से पानी का निकासी न हो पाना और मुख्य सड़क के बगल में सड़क से काफी ऊंचा मिट्टी भराई कर घर बनवाने की बढ़ती प्रवृत्ति के कारण गांव में जलजमाव की स्थिति बन गई है। ऐसा इस रास्ते में आने वाले चौक चौराहों पर भी है। नेताओं ने बताया व्यवसायिक और सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण होने के साथ अमूमन बीस हजार की आबादी का दैनिक जीवन सीधे इसी एकमात्र मुख्य सड़क से जुड़ा है।दौरा कर रही टीम के नेतृत्वकर्ता ढाका प्रखंड जदयू किसान प्रकोष्ठ के अध्यक्ष सह मीडिया प्रभारी अशोक कुमार सिंह ने पत्र लिखकर जिलाधिकारी पूर्वी चम्पारण से व्यापक जनहित में उक्त मुख्य सड़क की अविलंब मरम्मत कराकर यातायात सुगम बनाने की मांग की है।

बाढ़ पीड़ितों को सहायता राशि का जल्द भुगतान किया जाए: मनोज

प्रखंड के भेला छपरा व भोला चौक पर बाढ़ का पानी 37 वे दिन भी जमा रहा। जिसके कारण मोखिलशपुर व गोबरी के लोगो का आवागमन बन्द रहा। यहां के लोगो के आने जाने के लिए नाव ही एकमात्र सहारा बना है। भोला चौक पर पानी अधिक होने के कारण दोपहिया व चार पहिया वाहनों का आवागमन भी प्रभावित रहा। जिसके कारण जटवा,जनेरवा, सिसवनिया, मोहमदपुर, खैरी, सुखिडीह, बुढ़वा, फुलवार सहित अन्य गांव के लोगो का जिला व प्रखंड मुख्यालय से संपर्क कटा रहा। भोला चौक प्रखंड कार्यालय के सामने सड़क पर तीन फीट पानी जमा है,जिससे लोगो को आने जाने में काफी परेशानी हो रही है। जबकि कई युवक जान जोखिम में डालकर बाइक लेकर आ जा रहे थे। जिनमें कई बाइक में पानी घुस जाने के कारण बाइक बन्द भी हो गई।

वही फुलवार के लोग जहां जटवा होकर आम दिनों में केवल 20 किमी दूरी तय कर जिला व प्रखंड मुख्यालय पहुंच जाते थे। वही अब बाढ़ के कारण गम्हरिया से सुगौली छपवा होकर करीब 80 किमी दूरी तय कर जिला मुख्यालय पहुंच रहे है। जिससे लोगो का पैसा के साथ समय भी अधिक लग रहा है। वही पँचरुखा पश्चिमी के मुखिया कुमार मनोज सिंह बुधवार को नाव से अपने पंचायत का निरीक्षण किया। निरीक्षण पश्चात उन्होंने बताया कि पंचायत का मोखलिशपुर,ब्रह्मपुरी,खड़वा,लमौनिया व झखिया बाढ़ से अभी भी प्रभावित है। उन्होंने अंचल प्रशासन पर राहत वितरण में भेदभाव करने का आरोप लगाया है। बिना होमवर्क के आंचल कार्यालय वितरण किया जिससे कई पंचायतों में राहत पहुंच ही नही पाया। उन्होंने कहा कि जिलाधिकारी के निर्देश के बावजूद उन पंचायतों में सुखा भोजन का पैकेट नही पहुंच पाया। जहां सामुदायिक किचन नही चल पाया। जबकि आज भी जटवा पुल, जटवा मध्य विद्यालय, खड़वा,पँचरुखा,अजगरवा व मोहम्मदपुर सहित कई गांव के लोग विस्थापित है।

खबरें और भी हैं...