पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

धोखाधड़ी:20 हजार महिलाओं से ठगी कर भागा चिटफंड कंपनी का डायरेक्टर, महिलाएं सड़क पर उतरीं

मोतिहारी17 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
धोखाधड़ी के मामले में मलंग चौक पर चक्का जाम करती सैकड़ों महिलाएं। - Dainik Bhaskar
धोखाधड़ी के मामले में मलंग चौक पर चक्का जाम करती सैकड़ों महिलाएं।
  • महिलाओं के समूह से मदर टेरेसा फ्यूचर फाउंडेशन ट्रस्ट में जमा कराता था पैसे, देने की बारी आई तो भागा

मधुबन में एक ट्रस्ट की आड़ में महिलाओं से करोड़ों की धोखाधड़ी की गई है। धोखाधड़ी के बाद संचालक फरार हो गया। महिलाओं के 850 समूह से करीब चार करोड़ों रुपए की धोखाधड़ी बताई जा रही है। संचालक के फरार होने की जानकारी के बाद कई थानों की सैकड़ों महिलाओं ने मधुबन मलंग चौक के चौराहों पर सड़क जाम कर आगजनी की। इन महिलाओं का कहना था कि थाना क्षेत्र के ही बंजरिया गांव निवासी निर्भय यादव ने मदर टेरेसा फ्यूचर फाउंडेशन ट्रस्ट के माध्यम से करोड़ों रुपए की धोखाधड़ी की है। घटना की सूचना मिलने के बाद मौके पर पकड़ीदयाल एसडीपीओ प्रशासन ने समझा-बुझाकर जाम हटवाया और संबंधित थाने में आवेदन देकर एफआईआर करवाने की बात कही।
क्या था व्यवसाय का तरीका : महिलाओं का कहना है कि ट्रस्ट ने एक महिला को हेड बना कर उसके अंडर में 20-20 महिलाओं का एक समूह बनवाया। हेड महिला को प्रति माह 12500 वेतन देने की बात कही गई। संबंधित समूह की महिलाओं को अलग-अलग भारत फाइनेंस, फियूसियन फाइनेंस आदि के माध्यम से प्रति व्यक्ति 22500 लोन दिलाया गया। उस लोन के पैसे को मदर टेरेसा के एकाउंट में डलवाया गया। बताया गया कि महिला को 2500 रुपए प्रति माह मिलेंगे, जिससे वह लोन की राशि चुकता करेंगी। इस प्रकार पूरे समूह को 4,50,000 रुपए मिलना था।

ट्रस्ट 850 समूह का निर्माण कर सभी महिलाओं से ‌~2500 खाते में डलवाए, हर महीने 2500 देने का दिया था झांसा

अभी तक ज्ञात रूप से मदर टेरेसा फ्यूचर फाउंडेशन ट्रस्ट 850 समूह का निर्माण कर सभी महिलाओं से 2500 रुपए खाते में डलवाए। यह राशि करीब 4 करोड़ के करीब है। पैसे डाले जाने के बाद कंपनी को बंद कर डायरेक्टर निर्भय यादव फरार हो गया। महिलाएं उसकी तलाश कर रही हैं। विभिन्न जिलों में बने समूह की महिलाओं की संख्या करीब 20 हजार है। इनमें पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण, शिवहर, सीतामढ़ी, मुजफ्फरपुर वैशाली, दरभंगा आदि जिलों की महिलाएं शामिल हैं।
ऐसे की गई महिलाओं से ठगी
महिलाओं ने माइक्रो फाइनेंस से लोन लेकर मदर टेरेसा फ्यूचर फाउंडेशन ट्रस्ट के खाते में पैसा डाल दिया। सारे काम करने तथा पैसा जमा करने के बाद जब महिलाओं के खाता में पैसा देने की बारी आई तो मदर टेरेसा फ्यूचर फाउंडेशन ट्रस्ट का कर्ताधर्ता बंजरिया गांव निवासी निर्भय यादव फरार हो गया। उस दौरान किसी महिला को अभी तक एक रूपया भी नहीं मिला। इससे महिलाएं आक्रोशित हो गई।

22 हजार के बदले 60 हजार देने का था वादा
मदर टेरेसा फ्यूचर फाउंडेशन ट्रस्ट के डायरेक्टर ने महिलाओं को बताया कि अगर वह एक मुश्त कर्ज में मिली राशि 22 हजार डालेंगे तो आपको प्रतिमाह 2500 रुपए प्रतिमाह मिलेंगे। जो पूरे दो वर्ष तक मिलेंगे। जिससे आपको 60 हजार रुपए ट्रस्ट देगी।
इन जिलों में चल रहा था चिटफंड का काम
मदर टेरेसा फ्यूचर फाउंडेशन ट्रस्ट का यह चिट फंड का काम पश्चिम चंपारण, शिवहर, सीतामढ़ी, वैशाली, दरभंगा, मधुबनी आदि जिलों में भी चल रहा था। इन जगहों की भी महिलाओं को भी समूह के नाम पर ठगी की गई है।
डायरेक्टर की गिरफ्तारी के लिए चल रही छापेमारी
चकिया स्थित मदर टेरेसा फ्यूचर फाउंडेशन ट्रस्ट चिटफंड कंपनी चला था। इसके डायरेक्टर निर्भय यादव पर प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है। निर्भय फरार बताया जा रहा है। उसकी गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है। -सुनील कुमार सिंह, एसडीपीओ, पकड़ीदयाल।

खबरें और भी हैं...