घर वापसी / नेपाल में फंसे पांच सौ भारतीय नागरिकों को लाया गया, बस से घर तक छोड़ा गया

Five hundred Indian nationals stranded in Nepal, brought home from bus
X
Five hundred Indian nationals stranded in Nepal, brought home from bus

दैनिक भास्कर

May 30, 2020, 05:00 AM IST

मोतिहारी. वंदे भारत मिशन के तहत शुक्रवार को भी नेपाल में फंसे भारतीय नागरिकों के घर वापसी का सिलसिला जारी रहा। शुक्रवार को लगभग 500 भारतीय नागरिक नेपाल से बस से वीरगंज आईसीपी के रास्ते रक्सौल आईसीपी में पहुंचे जहां उनका और पंजीकरण प्रक्रिया पूरा करने के बाद खाना खिलाकर उन्हें बस से उनके घर तक छोड़ा गया। शुक्रवार को नेपाल से आने वाले भारतीय नागरिकों में अधिकांश नागरिक दरभंगा और मधुबनी के थे।

वीरगंज स्थित भारतीय महावाणिज्य दूतावास और नेपाल सरकार के आपसी समन्वय के आधार पर नेपाल के वीरगंज, कलेया, गौर, सर्लाही, जनकपुर, काठमांडू, हेथौड़ा, पोखरा आदि विभिन्न स्थानों पर काम करने वाले भारतीय नागरिकों को भारत भेजा जा रहा है। विगत दो माह से जारी लॉकडाउन के कारण भारतीय नागरिकों की स्थिति चिंताजनक हो गई थी।  जिसकी सूचना पर भारत नेपाल सरकार के सहमति के बाद नेपाल में फंसे भारतीय नागरिकों को भारत लाने का सिलसिला पिछले 26 मई से प्रारंभ हुआ, जो आगामी 31 मई तक चलेगा। इस अवसर पर वीरगंज स्थित कन्सुलेट ऑफ इंडिया के कॉन्सुलेट जनरल डा. कोट्रा स्वामी, सुरेश कुमार, बीडीओ कुमार प्रशांत सहित सभी भारत नेपाल के अधिकारी मौजूद थे।

नेपाल के पर्सा में मिले 5 कोरोना पॉजिटिव मरीज, बारा में बढ़ रही संक्रमितों की संख्या

रक्सौल | नेपाल के पर्सा जिला में नए पांच कोरोना पॉजिटिव मिला है। जिसके बाद पर्सा जिला में संक्रमितों की संख्या 100 हो गई है। इसकी पुष्टि करते हुए वीरगंज स्थित नारायणी उप क्षेत्रीय अस्पताल के अधीक्षक डाॅ. मदन उपाध्याय ने बताया कि पर्सा जिला के पोखरिया नगरपालिका के जिला उच्चांङल माध्यमिक विद्यालय क्वारेंटाइन सेंटर में भारत से आए पोखरिया वार्ड नंबर 9 निवासी चार युवक की रिपाेर्ट पॉजिटिव आई है।

जबकि पूर्व से ही वीरगंज के नारायणी उपक्षेत्रीय अस्पताल सहित विभिन्न स्थानों पर 95 संक्रमितों का उपचार जारी है। उधर, बारा जिला में भी 51 संक्रमित पाए जाने के बाद बाद सीमाई क्षेत्र के लोगों में दहशत व्याप्त है।

भारत से आने वालों के प्रवेश पर रोक लगने से सीमा पर फंसे नेपाली नागरिक

विगत 27 से 28 मई तक रक्सौल के क्वारेंटाइन सेन्टर में रह रहे नेपाली नागरिक सहित भारत के विभिन्न स्थानों से आने वाले नेपाली नागरिकों के नेपाल जाने पर रोक नहीं था। नतीजतन 28 मई गुरुवार को महाराष्ट्र, गोपालगंज और मोतिहारी से आने वाले दर्जनों नेपाली नागरिकों को नेपाल प्रवेश करने दिया गया। मगर शुक्रवार से नेपाल सरकार द्वारा नेपाली नागरिकों के रविवार तक नेपाल प्रवेश पर रोक लगाए जाने के बाद भारत के विभिन्न हिस्सों से आए नेपाली नागरिक लगभग 11 घंटा से सीमा पर फंसे हुए है। बिहार के पूर्वी चम्पारण मोतिहारी से आए नेपाल के बारा जिला निवासी असलम अंसारी ने बताया कि लॉकडाउन के पहले ही मोतिहारी स्थित एक रिश्तेदार के यहां शादी में गए थे।

शादी के बाद लॉकडाउन में फंस गए मगर नेपाल प्रशासन अनुमति नही दे रहा है। पूर्वी चम्पारण के घोड़ासहन से आए नेपाल के वीरगंज निवासी फिरोज, अशरफ अली, जिशान आलम, जिया खातून, आइसा खातून, नामक दर्जनों नेपाली नागरिकों ने बताया कि घोड़ासहन में अपने रिश्तेदार के यहां गए थे।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना